उ प्र कांग्रेस लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
उ प्र कांग्रेस लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

14 सितंबर 2021

आगरा के आम नागरिकों की जरूरतों को चुनावी एजेंडे में शामिल करे कांग्रेस

 कांग्रेस उ प्र  चुनाव समिति के इंचार्ज सलमान खुर्शीद को सिविल
सोसायटी ने आगरा की समस्‍याओं से अवगत करवाया 

-- वाहनों के इस्तेमाल की अवधि 15 साल करने से बडे पैमाने पर स्‍किल मैकेनिको तक का काम छिना

आगरा:राजनैतिक दलों के द्वारा अपनी चुनावी राजनीति में आगरा को भी शामिल कर यहां के विकास के मुददों के प्रति प्रतिबध्दता भी जतायी हुई  है,इसे दृष्टिगत उनके संज्ञान में आगरा की जरूरतों की तथ्यपरक जानकारी लाये जाने के लिये सिविल सोसायटी ने अभियान शुरू किया है। सोसायटी के जनरल सैकेट्री श्री अनिल शर्मा ने कांग्रेस के सैकेट्री एवं इंचार्ज उ प्र चुनाव समिति श्री सालमान खुर्शीद से 6सितम्बर 2021 को उनके आगरा आगमन पर मुलाकात की।

श्री शर्मा ने आगरा की अपेक्षाओं के अनुसार कांग्रेस से आग्रह किया है,कि आगरा में आटोमोवाइल एक्ट (National Automobile Scrappage Policy 2021)जो कि

23 अगस्त 2017

केवल भाजपाईयों की इंस्पैक्टरी कर कांग्रेस के हालातों में बदलाव मुश्किल

--ई-गर्वनेंस के साइबर मोर्चे तक पर यू पी में पार्टी हाशि‍ये पर
उ प्र में अब भीड शून्‍य पार्टी बनकर रह गयी है कांग्रेस
आगरा: उ प्र में 2019 में बडी राजनैति‍क उथल पुथल होने जा रही है ,भाजपा वि‍रोधी राजनीति‍ के तहत दोनों प्रमुख रीजनल पार्टि‍यां जहां अपने अपने सोशल इंजीनि‍यरि‍ग मैकेनि‍ज्म वाले बेस बोटों को लेकर सक्रि‍य हैं वहीं कांग्रेस केवल योगी सरकार के ‘इंस्पैिक्टर‘ की भूमि‍का में ही रह गयी है।स्व. चन्‍द्रभानु गुप्ता से लेकर श्री नि‍र्मल खत्री तक कार्यकालों में पार्टी कभी भी जनता से इतनी बेरुखी के दौर से नहीं
गुजरी।
वि‍रोध की राजनीति‍ में सत्ता  दल पर इंस्पैक्टर तो बने ही रहना चाहि‍ये कि‍न्तु केवल इंस्पैक्टर बने रह कर ही काम चलता रहेगा यह केवल कांग्रेस के लि‍ये ही संभव है।दरअसल पार्टी चाहे सत्ता में हो या फि‍र बाहर उसके अपने एजैंडे होते हैं ,कार्यक्रम भी होते हैं। जनमानस को उम्मीद रहती है कि‍ जब पार्टी सत्ता में आयेगी तो उसके काम काज का रोडमैप यह होगा।कि‍न्तु वर्तमान में