27 सितंबर 2022

लॉटरी जीतने के बाद,पैसे मांगने वाले लोगों से घिरा हुआ हूँ मैं - अनूप

 

दक्षिण भारतीय राज्य केरल के ऑटो चालक  अनूप ने बड़े धन और लोकप्रियता के नुकसान का अनुभव किया है और उसे अब बहुत करीब से समझा और देखा है। लॉटरी जीतने  के बाद मीडिया साक्षात्कार में  अनूप ने कहा कि 25 करोड़ रुपये (करीब 3 मिलियन डॉलर) की लॉटरी जीत उसके परिवार की किस्मत को हमेशा के लिए बदल देगी। किन्तु  एक हफ्ते बाद,इस  ऑटो चालक ने बड़े पैसे और लोकप्रियता के नुकसान का अनुभव किया और समझा। उन्होंने अपनी दुर्दशा को समझाते हुए एक नया वीडियो भी जारी किया है

उनके दैनिक जीवन ने बदतर के लिए एक मोड़ ले लिया है और उन्होंने अपनी दुर्दशा को समझाते हुए एक नया वीडियो भी जारी किया है। लोकप्रियता मिलने से मीडिया कवरेज थता लोगों ने  उनका बाहर निकलना मुश्कि कर दिया है। पारवारिक शांति का जीवन मुश्किल हो गया है। पैसे मांगने वालों की भी लाइन लग गई है। 


25 सितंबर 2022

भारतीय ऑस्कर एंट्री ' छेलो शो ' बचपन के दिनों की याद दिलाती है

 

नई दिल्ली - गुजरती फिल्म  ' छेलो शो ' 2023 ऑस्कर में सर्वश्रेष्ठ अंतर्राष्ट्रीय फीचर फिल्म श्रेणी में भारत का प्रतिनिधित्व करेगी । इस फिल्म ने  फिल्म ने पिछले कई  अंतराष्ट्रीय फिल्म समारोहों में भी लोगों का दिल जीत चुकी  है। जिसमें  2021 में स्पेन में 66वें वलाडोलिड फिल्म फेस्टिवल तथा  11वें बीजिंग इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2021 में टियांटन अवार्ड्स के लिए भी नामांकित किया गया था।पान नलिन द्वारा निर्मित यह फिल्म गुजराती आने वाले युग के नाटक को फिल्म फेडरेशन ऑफ इंडिया की  समिति द्वारा चुना गया है ।  छेलो शो में उन लोगों के लिए भी कुछ है जो अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए लंबी रील वाली फिल्में देखने जाते थे । यह फिल्म बचपन के दिनों में वापस ले जाती है  शानदार फिल्म ,' छेलो शो ' देखकर  की बचपन के समय की याद आती है  जब सिनेमा की दुनिया एक सपने की तरह लगती थी।

विदेशी टूरिस्ट ताजमहल से ज्यादा बंदरों के फोटो खींचते हैं

 

आगरा। भूखे प्यासे और आश्रयहीन बंदरों ने ताजमहल को अपना घर सा बना रखा है। टूरिस्टों  मनोरंजन तथा खाना भी मुफ्त में। खासतौर से विदेशी टूरिस्ट ताजमहल से ज्यादा बंदरों के फोटो ज्यादा खींचते हैं। बंदर आगरा के लिए एक भारी समस्या बन चुके हैं। आसपास के जंगलों के पेड़ों के काटने ये आश्रयहीन शहरों में पहुँच चुके हैं हैं। आगरा में  बंदरों से कैसे पीछा छुड़ाया जाये यह हम सबके सामने एक कठिन प्रश्न है। यह सब जानते हैं कि हमारा वन पारिस्थितिकी तंत्र बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो चूका  है। बहुत सारे फलों के पेड़ जिन्हें बन्दर पसंद  करते हैं करीब करीब गायब हो गए हैं। बंदरों का प्रजनन चक्र काफी तेज होता है।वनों की कटाई के कारण विशेष रूप से भारत वे अब ग्रामीण नहीं बल्कि शहरी बन चुके हैं। वे भोजन के लिए विशाल समूह में शहरों में पलायन करते  हैं। मात्र हल यही है कि वन विभाग  उन्हें हज़ारों में नियमित पकड़कर  घने जंगल में छोड़ने के लिए बेहतर काम कर सकता है। वास्तव में जंगल ही उनकी असली  दुनिया है, जो उनके बापिस मिलनी चाहिए । इस समस्या को लेकर बहुत से स्थानीय लोग हाई कोर्ट तक का दरवाज़ा खटखटा चुके हैं , किन्तु हल किसी के पास नहीं। 

23 सितंबर 2022

ट्रेनों पर नजर रखने के लिए भारतीय रेलवे द्वारा नई तकनीकों का उपयोग

 

नई दिल्ली  - ट्रेन नियंत्रण अब बिना किसी मानवीय हस्तक्षेप के आरटीआईएस सक्षम इंजनों तथा ट्रेन के स्थान और गति पर अधिक बारीकी से नजर रख सकेगा । इसरो के सहयोग से विकसित रीयल टाइम ट्रेन इंफॉर्मेशन सिस्टम (आरटीआईएस) को ट्रेनों के आगमन और प्रस्थान या पूर्वाभ्‍यास सहित स्टेशनों पर ट्रेन की आवाजाही के समय की स्वत: जानकारी प्राप्‍त करने के लिए इंजनों में लगाया जा रहा है। आरटीआईएस 30 सेकंड के अंतराल पर मिड-सेक्शन अपडेट प्रदान करता है। ट्रेन नियंत्रण अब बिना किसी मानवीय हस्तक्षेप के आरटीआईएस सक्षम ट्रेन के स्थान और गति पर अधिक बारीकी से नजर रख सकता है।

21 इलेक्ट्रिक लोको शेड में 2700 इंजनों के लिए आरटीआईएस उपकरण स्थापित किए गए हैं। दूसरे चरण में 50 लोको शेड में 6000 और इंजनों को शामिल किया जाएगा। वर्तमान में, लगभग 6500 लोकोमोटिव को सीधे कंट्रोल ऑफिस एप्लिकेशन में डाला जा रहा है। इसने सीओए और एनटीईएस एकीकरण के माध्यम से यात्रियों को ट्रेनों की स्वचालित चार्टिंग और नवीनतम जानकारी के सूचना प्रवाह को सक्षम किया है।

19 सितंबर 2022

जब बेबी हाथी ने महावत के साथ बंगलौर टू जिनेवा उड़ान भरी

 

शायद आपको पता हो कि स्पेन के जाने माने पेंटर  साल्वाडोर डाली ने 1967 में एयर इंडिया के लिए एक अतियथार्थवादी ऐशट्रे को डिजाइन किया था। साल्वाडोर डाली हाथियों के बहुत शौकीन थे। इसी कारण ऐशट्रे को डिजाइन करने के भुगतान के रूप में एयर इंडिया से एक हाथी देने के  लिए कहा। एयर इंडिया ने बैंगलोर से एक दो वर्षीय हाथी को एक महावत  के साथ जिनेवा के लिए उड़ान भरी। हाथी (बिग बेबी) को स्पेन के कैडक्वेस शहर में  ले जाया गया, जिसे रीति-रिवाजों से वहां नहलाया गया। महावत ने हाथी को पेंटर डाली के घर तक पहुँचाया, हाथी को एक कांच के मंच पर ले जाया गया, जहाँ हतप्रभ स्पेनिश ग्रामीणों ने उत्सव में उसके चारों ओर नृत्य किया। 

कैडक्वेस शहर के मेयर ने हाथी के आगमन का जश्न मनाने के लिए तीन दिनों की छुट्टी की घोषणा की थी । वहां इस अवसर पर एक विशेष परेड भी  आयोजित की गई थी और एक विशेष पेय जो वाइन और भारतीय चाय के साथ तैयार किया गया था और गुलाबी शैंपेन (डाली का पसंदीदा) को परोसा गया था। उत्सव में भाग लेने के लिए एक भारतीय ज्योतिषी को बंबई से आमंत्रित किया  गया था।

18 सितंबर 2022

भारत को एक सूत्र में बांधने में ढाबों की महत्वपूर्ण भूमिका जारी

 

ढाबा भारतीय  संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है। ढाबों के इतिहास के बारे में वास्तविक तथ्य उपलब्ध नहीं हैं , किन्तु कहा जाता है कि  ये शायद ब्रिटिश शासन द्वारा राजमार्गों के माध्यम से शहरों को जोड़ने के बाद उभरे। ढाबे भारतीय भारतीय जीवन शैली में  महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं।  यहां पर परोसे जाने वाले व्यंजन संस्कृतियों का मेल दिखाते हैं। विभाजन के दौरान ढाबों  ने एक महत्वपूर्ण  भूमिका निभाई जब उन्होंने जरूरतमंद लोगों को आवश्यक खाद्य पदार्थ परोसे। लोगों का मानना है कि ढाबों में परोसे  जाने वाली लगभग हर डिश प्रामाणिक होती है। रात में रेस्तरां और दुकानें जनता के लिए उपलब्ध नहीं होती हैं, लेकिन ये ढाबे 24 घंटे खुलते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात है ढाबों ने देश को एक सूत्र में बांध रखा है। थोड़ा आराम करने के लिए अक्सर यहाँ चारपाई भी देखी  जा सकती हैं। 

16 सितंबर 2022

अकबर के शासनकाल के दौरान भारत में चीतों की संख्या लगभग 10,000 थी

 

लगभग सात दशकों के विलुप्त होने के बाद नामीबिया से 8 चीते भारत पहुँच रहे हैं । अंतिम ज्ञात एशियाई चीते को महाराजा रामानुज प्रताप सिंह देव ने 1947 में गोली मार दी थी। रामानुज प्रताप सिंह कोरिया की रियासत के महाराजा थे,जिसे आज छत्तीसगढ़ के नाम  से जाना जाता है। इसमें पांच मादा और तीन नर अफ्रीकी चीते हैं। ये चेते 17 सितंबर को मध्य प्रदेश पहुंचेंगे। ये चीते अंतरमहाद्वीपीय स्थानांतरण में 8,000 किमी से अधिक की यात्रा कर रहे हैं । इनकी यात्रा के लिए  संशोधित बोइंग 747 कार्गो विमान का इस्तेमाल किया गया है ।  कुनो राष्ट्रीय उद्यान, चंबल में 750 वर्ग किमी में फैला है, जहां मृग, नीलगाय, जंगली सूअर, चित्तीदार हिरण और सांभर की एक बड़ी आबादी है, जो चीतों के लिए पर्याप्त शिकार के लिए उपलब्ध  हैं। भविष्य  में देश में और चीतों को फिर से आने की संभावना है।1556 से 1605 तक सम्राट अकबर के शासनकाल के रिकॉर्ड बताते हैं कि चीतों की संख्या लगभग 10,000 थी। कहा जाता है कि एक मुग़ल बादशाह अकबर ने अपने वन्य पशुशाला में 1,000 चीतों को रखा हुआ था तथा 16वीं शताब्दी में अपने अर्धशतकीय शासनकाल के दौरान 9,000 से अधिक चीतों पर कब्जा किया हुआ था ।शोध बताते हैं कि 19वीं सदी तक यह संख्या गिरकर कुछ सैकड़ों रह गई।


12 सितंबर 2022

स्तन कैंसर के इलाज की दर और जीवित रहने की दर में उल्लेखनीय वृद्धि के लिए कम लागत वाला हस्तक्षेप

 

मुंबई : डॉ. राजेंद्र बडवे, निदेशक, टाटा मेमोरियल सेंटर, मुंबई ने आज स्तन कैंसर पर एक ऐतिहासिक बहु-केंद्रीय भारतीय अध्ययन के परिणाम प्रस्तुत किए। इस अध्ययन के परिणाम बताते हैं कि यह सरल, कम लागत वाला हस्तक्षेप महत्वपूर्ण रूप से और काफी हद तक स्तन कैंसर के रोगियों के इलाज की दर और उत्तरजीविता को बढ़ाता है, एक लाभ जो सर्जरी के बाद कई वर्षों से जारी है। इंजेक्शन के लिए किसी अतिरिक्त विशेषज्ञता की आवश्यकता नहीं है, यह सस्ती है, और इसके परिणामस्वरूप विश्व स्तर पर सालाना 100,000 लोगों की जान बचाई जा सकती है। ये लाभ पर्याप्त हैं और एक हस्तक्षेप के साथ हासिल किए गए थे जिसकी लागत प्रति मरीज 100/- रुपये से कम थी। तुलना के लिए, प्रारंभिक स्तन कैंसर के रोगियों में बहुत कम परिमाण के लाभ बहुत अधिक महंगी, लक्षित दवाओं द्वारा प्राप्त किए गए हैं जिनकी कीमत प्रति रोगी दस लाख से अधिक है। इसलिए नैदानिक ​​परीक्षण स्तन कैंसर के उपचार में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। स्तन कैंसर की सर्जरी कराने वाली महिलाओं में परीक्षण में सर्जरी से ठीक पहले, ऑपरेटिंग टेबल पर ट्यूमर के चारों ओर आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली दवा का इंजेक्शन लगाया गया  था।

10 सितंबर 2022

वंदे भारत 2 ट्रेन में यात्री हवाई जहाज में उड़ता महसूस करेंगे

 

नई दिल्ली - यात्रियों को बेहतरीन सुविधाएं देने के निरंतर प्रयासों के तहत भारतीय रेलवे हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत का नया अवतार यानि ‘वंदे भारत 2’ पेश करेगी। ‘वंदे भारत 2’ केवल 52 सेकंड में 0 से बढ़कर 100 किमी प्रति घंटे की गति, 180 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति, 430 टन के बजाय 392 टन का कम वजन और मांग पर वाई फाई कंटेंट उपलब्‍ध होने जैसी बेहतरीन सुविधाओं से लैस होगी। नई वंदे भारत में 32 इंच के एलसीडी टीवी भी होंगे जबकि इससे पहले की वंदे भारत में एलसीडी टीवी 24 इंच के थे। ट्रैक्शन मोटर की धूल रहित स्वच्छ वायु कूलिंग के साथ 15 प्रतिशत अधिक ऊर्जा कुशल एसी ट्रेन यात्रा को और भी अधिक आरामदायक बना देंगे। एक्जीक्यूटिव क्लास के यात्रियों को दी जा रही साइड रिक्लाइनर सीट की सुविधा अब सभी श्रेणियों में उपलब्ध कराई जाएगी।

वंदे भारत एक्सप्रेस के नए डिजाइन में वायु शुद्धिकरण के लिए रूफ माउंटेड पैकेज यूनिट (आरएमपीयू) में फोटो-कैटेलिटिक अल्ट्रा वायलेट एयर प्यूरीफिकेशन सिस्टम लगाया गया है।  केंद्रीय वैज्ञानिक उपकरण संगठन (सीएसआईओ), चंडीगढ़ की सिफारिश के अनुसार, इस सिस्टम को आरएमपीयू के दोनों सिरों में स्थापित किया गया है, ताकि ताजी हवा और वापस आ रही हवा के माध्यम से आने वाले कीटाणुओं, बैक्टीरिया, वायरस, इत्‍यादि से युक्त हवा को फिल्टर और साफ किया जा सके।


जापानी रक्षा कंपनियों को भारतीय रक्षा गलियारों में निवेश का आमंत्रण

 

टोक्यो में भारत जापान 2+2 मंत्रीस्तरीय वार्ता के बाद रक्षा मंत्री  राजनाथ सिंह ने कहा कि हमने समुद्री डोमेन जागरूकता सहित समुद्री सहयोग बढ़ाने के तरीकों पर व्यापक विचार-विमर्श किया है। दोनों पक्षों में इस बात पर सहमति बनी है कि राष्ट्रों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता पर आधारित स्वतंत्र, खुले, नियम-आधारित और समावेशी हिंद-प्रशांत के लिए एक मजबूत भारत-जापान संबंध बहुत महत्वपूर्ण है। भारत की इंडो-पैसिफिक ओशन इनिशिएटिव (आईपीओआई) जापान के फ्री एंड ओपन इंडो-पैसिफिक (एफओआईपी) के साथ कई समानताएं साझा करता है। भारत ने क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा और विकास (सागर) के हमारे समावेशी दृष्टिकोण के अनुरूप क्षेत्रीय भागीदारों के साथ समुद्री सहयोग भी विकसित किया है। आसियान के साथ भारत के संबंध हमारी विदेश नीति का आधार बनकर उभरे हैं। एडीएमएम प्लसके माध्यम से, भारत और जापान दोनों आसियान और अन्य प्लस देशों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं ताकि समुद्री सुरक्षा, एचएडीआर, शांति अभियानों आदि सहित सभी क्षेत्रों में सहयोग को मजबूत किया जा सके। आज हमें महत्वपूर्ण मुद्दों, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर अपने विचार साझा करने का अवसर मिला और अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुरूप विवादों के शांतिपूर्ण समाधान की आवश्यकता पर सहमति बनी।

8 सितंबर 2022

दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं महारानी के परिवार और ब्रिटेन के लोगों के साथ - मोदी

 


नई दिल्ली  प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने कहा , "महामहिम महारानी एलिजाबेथ द्वितीय को हमारे समय के एक दिग्गज के रूप में याद किया जाएगा। उन्होंने अपने राष्ट्र और लोगों को प्रेरक नेतृत्व प्रदान किया। उन्होंने सार्वजनिक जीवन में गरिमा और शालीनता का परिचय दिया। उनके निधन से आहत हूं। इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार और ब्रिटेन के लोगों के साथ हैं।”

"2015 और 2018 में ब्रिटेन की अपनी यात्राओं के दौरान मेरी महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के साथ यादगार भेंट हुईं। मैं उनके उत्साह पूर्ण भाव और सहृदयता को कभी नहीं भूलूंगा। एक बैठक के दौरान उन्होंने मुझे वह रूमाल दिखाया जो महात्मा गांधी ने उन्हें  उनके विवाह में उपहार में दिया था। मैं उस भावपूर्ण क्षण को हमेशा संजो कर रखूंगा।"

5 सितंबर 2022

आगरा के पर्यटन प्रेमी लद्दाख घूमने का सपना पूरा कर सकेंगे

 

आगरा - भारत में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए IRCTC  पूरे जोरों पर काम कर रहा है। आगरा से लद्दाख टूर पैकेज यात्रियों को दिल्ली होते हुए आगरा से लद्दाख की यात्रा पर ले जाता है। आगरा से दिल्ली का सफर ट्रेन से तय करना होगा  और फिर पर्यटक विमान द्वारा  दिल्ली से लेह का सफर तय करेंगे।

लद्दाख एक केंद्र शासित प्रदेश के रूप में भारत द्वारा प्रशासित एक क्षेत्र है और बड़े कश्मीर क्षेत्र का एक हिस्सा है। यह उत्तर में काराकोरम पर्वत श्रृंखला और दक्षिण में हिमालय से घिरा है। 11.400 फीट की ऊंचाई पर स्थित, इसे दांतेदार चोटियों और बंजर परिदृश्य वाले ऊंचे दर्रों की भूमि के रूप में भी जाना जाता है। यहां आने वाला कोई भी व्यक्ति पूरी तरह से सुरम्य गंतव्य को देखकर मंत्रमुग्ध हो जाता है।

बहरहाल, लद्दाख एक विशिष्ट ठंडा रेगिस्तान नहीं है क्योंकि इसके कठोर दृष्टिकोण के तहत लोगों और पारंपरिक प्रथाओं से भरी एक प्राचीन सभ्यता है जो 100 साल से अधिक पुरानी है। जंगल की यह भूमि लेह भ्रमण के लिए कई उत्तम मार्ग प्रदान करती है जिसे पर्यटक ट्रेक पर देख सकते हैं।