25 जुलाई 2021

रुद्रेश्वर मंदिर यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल की सूची में

 


अब तक की एक और ऐतिहासिक उपलब्धि में, तेलंगाना राज्य में वारंगल के पास, मुलुगु जिले के पालमपेट में स्थित रुद्रेश्वर मंदिर (जिसे रामप्पा मंदिर के रूप में भी जाना जाता है) को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल की सूची में अंकित किया गया है। यह निर्णय आज यूनेस्को की विश्व धरोहर समिति के 44वें सत्र में लिया गया। रामप्पा मंदिर, 13वीं शताब्दी का अभियंत्रिकीय चमत्कार है जिसका नाम इसके वास्तुकार, रामप्पा के नाम पर रखा गया था। इस मंदिर को सरकार द्वारा वर्ष 2019 के लिए यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल के रूप में एकमात्र नामांकन के लिए प्रस्तावित किया गया था।

यूनेस्को ने आज एक ट्वीट में घोषणा करते हुए कहा, "अभी-अभी विश्व धरोहर स्थल के रूप में अंकित: काकतीय रुद्रेश्वर मंदिर (रामप्पा मंदिर), भारत के तेलंगाना में। वाह-वाह!"


22 जुलाई 2021

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़, हाथरस, एटा सहित आठ जिले कोविड मुक्त घोषित

 

लखनऊ -  उ प्र  के आठ जिलों अलीगढ़, बलरामपुर, बस्ती, एटा, महोबा, ललितपुर, हाथरस और श्रावस्ती को कोरोनावायरस मुक्त घोषित किया गया है। यह जानकारी प्रदेश के  अतिरिक्त मुख्य सचिव (सूचना) नवनीत सहगल ने दी। उत्तर प्रदेश में  21 जुलाई तक 4.20 करोड़ से अधिक कोविद वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं। श्री सहगल ने बताया कि  वर्तमान में,  1,028 सक्रिय कोविड मामले हैं तथा रिकवरी रेट 98.6  प्रतिशत  है। उन्होंने कहा कि 44 जिलों में संक्रमण का एक भी नया मामला नहीं पाया गया। श्री सहगल ने आगे कहा कि प्रदेश में पिछले 24 घंटों में 2.34 लाख कोविड नमूनों की जांच की गई तथा अब तक कुल 6.33 करोड़ से अधिक कोविड नमूनों के  परीक्षण किये जा चुके हैं । 

21 जुलाई 2021

कोविड भविष्य की लहरें बच्चों को अधिक प्रभावित करेंगी - डॉ. प्रवीण कुमार

 

नई दिल्ली - लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज, नई दिल्ली के शिशु रोग विभाग के निदेशक डॉ. प्रवीण कुमार ने बच्चों पर कोविड-19 के प्रभाव, उनकी सुरक्षा की आवश्यकता और गर्भवती महिलाओं व स्तनपान कराने वाली माताओं को टीका लगवाने सहित विभिन्न मुद्दों पर बातचीत की।

उन्होंने कहा कि  महामारी का बच्चों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है। वे एक साल से अधिक समय से घर तक ही सीमित हैं। इसके अलावा परिवार में बीमारियां, माता-पिता के लिए वेतन के नुकसान से तनाव बढ़ा है। बच्चे एक अलग तरीके से व्यवहार करके मनोवैज्ञानिक संकट (उदासी) व्यक्त कर सकते हैं। प्रत्येक बच्चे अलग-अलग रूप से व्यवहार करते हैं। कुछ खामोश हो सकते हैं जबकि दूसरे लोग क्रोध और अतिसक्रियता व्यक्त कर सकते हैं।

केंद्रीय हिंदी संस्थान आगरा में हिंदी सीखने वाले विदेशी छात्रों की संख्या में बृद्धि

 


आगरा। हिंदी के प्रति विश्व में आकर्षण बढ़ता देखा गया है। केंद्रीय हिंदी संस्थान आगरा  में हिंदी सीखने के इच्छुक  छात्रों की संख्या 85 से बढ़कर 100 हो गई है। पिछले  सत्र में मात्र 20 देशों के छात्र थे जबकि इस सत्र में देशों की संख्या 31 पहुँच गई है। इस नए सत्र में विदेशी छात्र ऑनलाइन हिंदी सीख सकेंगे। हिंदी सीखने  के सबसे अधिक 20 छात्र अफगानिस्तान से हैं। हिंदी सीखने की इच्छुक महिला छात्रों की संख्या तीस पहुँच चुकी है। अन्य देशों के अलावा  जापान ,चीन ,स्वीडन तथा स्विसज़रलैंड तक के छात्र भी  सूची  में हैं। इन छात्रों को छह हज़ार रूपये भी स्कालरशिप भारत सरकार की ओर से दिया जायेगा। 

ईदुल जुहा खुशनुमा माहौल में संपन्‍न, दी परस्‍पर मुबारक बाद

 -- कोरोना ' को लेकर रही एतिहातें और महंगाई की मार त्‍योहार पर रही भारी 

उ प्र अल्‍पसंख्‍यक आयोग के चेयरमैन अशफाक सैफी , भाजपा नेता हाजी
 अल्‍ताफ हुसैन 
महंत आनंद उपाध्‍याय ने किया सौहाद्रता का आह्वान

आगरा: ईद-उल-अजहा यानी बकरीद का त्यौहार जोश और हर्ष के माहौल में मनाया गया।उनसभी मस्‍जिदों में नमाज हुई और परंपरागत रूप से अल्‍लाह से अमनचैन की परंपरागत के लिये दुआ की गयी शाही जामामस्‍जिद और इदगाह के क्षेत्रों में महानगर के अन्‍य भागों की तुलना में अधिक रौनक रही।हंसी खुशी के माहौल पर अमूमन सबकुछ सामान्‍य रहा किन्‍तु महंगाई का असर सभी के द्वारा महसूस किया गया।

नाइत्‍ताकियों की बात अलग है अन्‍यथा उ प्र अल्‍पसंख्‍यक आयोग के चेयरमैन अशफाक सैफी के अनुसार कॉरोना प्रोटोकॉल का पालन पूरी तरह  से करने का प्रयास किया गया। पिछले डेढ साल से आगरा में त्‍योहारों सीमित और महज औचरिकता बनाने का प्रयास होता रहा है ,जबकि कॉरोना की दूसरी लहर बीत जाने