5 मार्च 2021

उत्तर प्रदेश के 14 बड़े शहरों के विकास का निर्णय, आगरा भी लिस्ट में

 

लखनऊ - मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहरी विकास आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए लखनऊ सहित 14 बड़े शहरों की शहरी विकास की आवश्यकताओं को पूरा  करने का निर्णय लिया है। यह निर्णय  मुख्यमंत्री ने शहरों  बढ़ती आबादी, घरों की बढ़ती संख्या, वाहनों की बढ़ती मात्रा और भविष्य की बढ़ती जरूरतों को ध्यान में रखते हुए लिया है। 

 इन शहरों में वाराणसी तथा गोरखपुर के अतरिक्त  कानपुर नगर, चित्रकूट, प्रयागराज, झांसी, आगरा, मथुरा, बरेली, मेरठ, सहारनपुर, मुरादाबाद और गौतम बुद्ध नगर (नोएडा) भी शामिल हैं ।

योगी सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि  इस नए प्रयास के तहत, लखनऊ सहित राज्य के संबंधित शहरों के लिए नए मास्टर प्लान (शहर विकास योजना) बनाए जाएंगे तथा  इसके अलावा, कुछ शहरों के मास्टर प्लान में संशोधन किया जाएगा।

3 मार्च 2021

आगरा के पत्रकारों को कौरोना संत्रास से उबार गया ' मीडिया कान्‍कलेव 2021'

 --जमकर हुई पेशागत चर्चायें , डटकर सामना करने को लिया संकल्‍प 

                    ------------                                          

मंचस्‍थों में हैं प्रख्‍यात पत्रकार अमिताभ अग्‍निहोत्री,सुश्री गरिमा सिंह,सांसद प्रो एस पी सिह बघेल,राजीव सक्‍सेना, अम्‍बरीश गोण सुशील गुप्‍ता, अजय शर्मा, बृजेश शर्मा  मनीष अग्रवाल,अनिल शर्मा आदि।

                फोटो:असलम सलीमी

                                                                                                                                            

आगरा। कार्पोरेट  काउंसिल फॉर लीडरशिप एंड अवेयरनेस (Corporate council for Leadership and Awareness -CCLA) द्वारा आगरा के  होटल हॉलिडे इन में मीडिया कॉन्‍कलेव  2021 का आयोजन बौद्धिक चर्चाओं के साथ संपन्‍न हुआ। कोरोना संक्रमण के एक साल से चल रहे दौर के बाद 28फरवरी का यह आयोजन पहला अवसर था जबकि निरुत्‍साह की स्‍थिति से न केवल पत्रकार उबरे आपितु अपनी शक्‍ति का अहसास एक बार फिर से नये अंदाज में उन सभी को करवाया जो कि मीडिया को अशक्‍त मानकर उसका मनमना उपयोग

28 फ़रवरी 2021

बेहतरीन डॉक्यूमेंट्री फिल्म निर्माता एस सुखदेव को याद किया भारत ने

 

नई दिल्ली - फिल्म्स डिवीजन  ने देश के  बेहतरीन डाक्यूमेंट्री फिल्म निर्माताओं में से एक एस सुखदेव को उनकी 42 वीं पुण्यतिथि पर याद किया । सुखदेव को उनकी 42 वीं पुण्यतिथि पर 1 मार्च, 2021 को तीन फिल्मों की स्क्रीनिंग करके, भारत में फिल्म निर्माण में उनके बहुमूल्य योगदान को रेखांकित किया जायेगा । इन फिल्मों को पूरे दिन फिल्म्स डिवीजन वेबसाइट और यूट्यूब चैनल पर स्ट्रीम किया जाएगा।

एस सुखदेव 1960 और 1970 के दशक के दौरान फिल्म्स डिवीजन से जुड़े सबसे प्रसिद्ध वृत्तचित्र फिल्म निर्माताओं में से एक थे। सुखदेव का निधन 1 मार्च, 1979 को 48 वर्ष की आयु में हुआ। उनकी सबसे प्रतिष्ठित फिल्मों में हैं, एंड माइल्स टू गो ..., इंडिया 67, नाइन मंथ्स टू फ्रीडम, द स्टोरी ऑफ बांग्लादेश।

आगरा के कोरोना वारियरों के सम्‍मान में आयोजित की गयी 'साइक्लोथॅान'

 -- मेयर नवीन जैन ने याद करवाये संकट से जूझते ताज सिटी के संघर्ष का दौर 

'साइक्लोथॅान'  के प्रतिभागी स्‍टार्टअप से पूर्व
आगरा कॉलेज परिसर मेंं

आगरा: कोरोना संक्रमण से मुक्‍त पूरी तरह से मुक्‍त हो पाये हां या नहीं लेकिन लेकिन आगरा मे कोरोना को अपेक्षा से कही अधिक प्रभावी तरीके से नियंत्रित कर लिया गया। कोरोना के विरुद्ध लडी गयी इस लम्‍बी लडाई के सक्रिय भागीदारों 'कोरोना वरियर' के सम्‍मान में  रविवार सुबह एक साइकिल रैली 'साइक्लोथॅान' का आयोजन किया गया ।  लगभग 700 छात्र-छात्राओं की इसमें भागीदारी रही। शिवालिक ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन के चेयरमैन एसएस यादव ने रैली को हरी झंडी

26 फ़रवरी 2021

भारत को बढ़ते हवाई यातायात का फायदा उठाते हुए मजबूत वायुयान लीजिंग उद्योग स्थापित करना चाहिए

 

नई दिल्ली - अगले 20 वर्षों में भारत में विमानन क्षेत्र की वृद्धि की संभावनाओं को देखते हुए भारत को 1,750-2,100 वायुयानों की आवश्यकता होगी जिन पर 20,40,000 करोड़ रुपए (290 अरब अमेरिकी डॉलर) की लागत आएगी और प्रतिवर्ष अनुमानित 100 विमानों की डिलीवरी होगी। इसका अर्थ एअरबस और बोइंग के अनुमानों के मुताबिक 35000 करोड रुपए या 5 अरब अमेरिकी डॉलर का वित्त प्रदाय। केंद्रीय नागरिक विमानन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  हरदीप एस पुरी कहा कि विमान लीज के कारोबार में पिछले कुछ दशकों में दुनिया में काफी ज्यादा वृद्धि हुई है। यह 1980 में दो प्रतिशत था जो कि 2018 में बढ़कर 31 प्रतिशत से अधिक हो गया है। अनुमान है कि 2020 में यह बढ़कर 50 प्रतिशत हो गया है।

नागरिक विमानन मंत्री ने रेखांकित किया है कि विमानन मूल्य श्रृंखला में विमान वित्त प्रदाय सबसे अधिक लाभ का क्षेत्र है और वर्तमान में भारत में बढ़ते हुए अवसरों का सर्वाधिक लाभ विदेशी वित्त प्रदाताओं