June 23, 2015

आगरा,मथुरा सहि‍त यू पी के 13 शहर होंगे स्मार्ट


-- नागरिकों, व्यापारियों और आने वाले पर्यटकों को पूरी सहूलियत, सुविधाएं और अवसर दे सकेंगे स्मार्ट शहर

(भवि‍ष्‍य के परकल्‍पि‍त यू पी के 13 शहर)
नई दिल्ली : आप चाहे स्‍मार्ट हो या नहीं कि‍न्‍तु अगर आप उत्‍तर प्रदेश के आगरा,मथुरा,अलीगढ और मेरठ शहर में रहते हैं तो  तो मान लीजि‍ये कि‍ आपके शहर के स्‍मार्ट होने का नम्‍बर आने वाला है।जि‍स प्रकार से मनमोहन सि‍ह सरकार के काल में बि‍ना बुलाये महमानों के समान दि‍ल्‍ली और बैंगलोर की दर्जनों कंसल्‍टेंसि‍यां खुदाई खि‍दमतगार के तौर पर अचानक आटपकी थी वैसे ही अब फि‍र यह सि‍लसि‍ला शुरू होने जा रहा है।देश में बनने जा रहे सौ स्‍मार्ट शहरों में से उत्तर प्रदेश में 13 स्मार्ट सिटी विकसित
की जाएंगी। जे एन यू आर एम को बन्‍द कर दि‍ये जाने के बाद वि‍कल्‍प के रूप में देश में शहरी विकास को गति देने के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार ने 100 स्मार्ट सिटि‍यों के लक्ष्‍य के साथ ही  राज्य के 54 शहरों को अमृत योजना के लिए चिन्हित किया गया है।
                                                   कोयी नई या बडी उम्‍मीद करना गलत
स्‍मार्ट सि‍टी बनजाने के बाद शहरी जनजीवन में केई बडा बदलाव आ पायेगा इसकी खास उम्‍मीद नहीं है। हा कुछ आधार भूत सुवि‍धाये जरूर बैहतर हो जायेंगी साथी स्‍थानीय नि‍कायो के माध्‍यम से शहरी जानता पर टैक्‍स का कुछ अतरि‍क्‍त बजन जरूर बढ जायेगा।
माईक्रो सौफ्ट जैसी कुछ बडी अंतराष्‍ट्रीय कंपनि‍यों को इस प्रोजेक्‍ट में खास दि‍लचस्‍पी है।क्‍यो कि‍ योजना के लि‍ये फंड रि‍लीज होने के साथ ही उनके उत्‍पादों और वि‍शि‍ष्‍ट सेवाओं की मांग एक दम बढ जायेगी। भारत में माइक्रोसॉफ्ट के गवर्नमेंट और हेल्थ डिविज़न के निदेशक विकास अग्रवाल का कहना है कि कंपनियां भारत की चुनौतियों के लिए तैयार हैं।
उनका कहना है कि‍ कोई भी शहर वहां रहने वाले लोगों की वजह से बनता है यह कहना है माईक्रो साफ्ट कंपनी के भारत में गवर्नमेंट और हेल्थ डिविज़न के निदेशक विकास अग्रवाल का ।स्‍मर्ट सि‍टी अवधारणा के पीछे सरकार का नि‍वेश के लि‍ये प्रस्‍ताहि‍त करने प्रयासरत माईक्रो साफ्ट के पास खुद बहुत ज्‍यादा स्‍पष्‍ट नहीं है कि‍ भारतीय शहरो के लि‍ये एक माड्यूल स्‍मार्ट शहर को कि‍स रूप में परि‍भाषि‍त कि‍या जाये।जब 'बी बी सी' 'की आरे से ज्‍यादा ही पूछ ताछ की गयी तो री अग्रवाल यही कह सके कि‍  एक शहर, जो अपने नागरिकों, व्यापारियों और अपने यहां आने वाले पर्यटकों को पूरी सहूलियत, सुविधाएं और अवसर दे पाए, वही सिटी स्मार्ट है।
उन्‍हों ने अपने कथन को अधि‍क जनग्राही बनाये जाने के लि‍ये बताया कि‍ एक शहर जो अपनी मूलभूत सुविधाओं का भरपूर इस्तेमाल करना जानता हो, उसी के ज़रिए अपने नागरिकों को तमाम तरह की सुविधाएं देना जानता हो, उनकी सुविधाओं और उनके लिए अवसर मुहैया कराने के लिए केंद्रित है, वो स्मार्ट सिटी है।