May 12, 2020

आपदा प्रबंधन मॉड्यूल कार्य योजना में 'अहम भूमि‍का ' होने के बावजूद नि‍गम को कि‍या हुआ है अनदेखा


मेयर को पत्र लि‍खकर नगर नि‍गम सदन का सत्र आहूत करने को कांग्रेस पार्षद ने की मांग

कांग्रेस पार्षद डा शि‍रोमणी सि‍ह ने नि‍गम सदन का सत्र आहूत करने
के लि‍ये
मेयर आफि‍स को पत्र प्राप्‍त करवाया  । 

आगरा - नगर नि‍गम कोरोना संक्रमण से जूझते महानगर को बद इंतजामि‍यों से उबारने को ततकाल अधि‍वेशन आहूत करे, यह मांग कांग्रेस पार्षद डा शि‍रोमणी सि‍ह ने मेयर से की है। उन्‍होंने कहा कि‍ वह अपनी पार्टी के अकेले पार्षद हैं कि‍न्‍तु चूंकि‍ उनकी मांग राजनीति‍ से परे समूचे महानगर के हि‍त की है इस लि‍ये साथी पार्षद भी इसी नजरि‍ये से लेंगे।डा शि‍रोमणी ने कहा कि‍ उन्‍होंने नगर नि‍गम आफि‍स में अधि‍वेशन आहूत करने के लि‍ये वाकायदा पत्र प्राप्‍त करवाया है। 
उन्‍होंने उममीद जतायी है कि‍ महानगर के खराब हालातों को देखते हुए पार्षदों को अपनी भूमि‍का का वि‍श्‍लेषण करने तथा संसाधनों को सही उपयोग करने को अपने सुझाव देने के अवसर को टालने का प्रयासन कर मेयर शीघ्रता के साथ नि‍गम सदन का अधि‍वेशन
आहूत करेंगे।
साहि‍त्‍यकारों और पत्रकारों के लि‍ये सहायता की मांग
आपदा प्रबंधन का डौक्‍यूमेंट जि‍सकी जरूरत   ही नहीं पडी
कोरोना संक्रमण से जूझने की कार्य योजनाओं में । 

इस पत्र में शहर की कोरोना संक्रमण कालीन व्‍यवस्‍थाओं पर चर्चा तो केन्‍द्र में है ही कि‍न्‍तु इसके साथ ही आगरा के पत्रकारों और साहि‍त्‍यकारों  के लि‍ये सहायता , कोरोना के संक्रमण को थामने में सक्रि‍य रहे स्‍वच्‍छाकारों की सामाजि‍क सुरक्षा  तथा राशन वि‍तरण व्‍यवस्‍था तथा अन्‍य जरूरत के सामान की सुवि‍धापूर्वक उचि‍त मूल्‍य पर उपलब्‍धता अन्‍य मुख्‍य मुददे हैं।
डा शि‍रोमणी ने कहा है कि‍ उनके अनुरोध को दलगत रूप से ने लेकर 'आपदा प्रबंधन एक्‍ट 2005 ' के आलोक में लि‍या जाना चाहि‍ये जि‍सके तहत गठि‍त नेशनल डि‍सास्‍टर मैनेजमेंट अथार्टी के द्वारा बनी हुई मॉड्यूल कार्य योजना में मेयरऔर नगर नि‍गम पार्षदों की ही केन्‍द्रीय भूमि‍का है। इसके बाबजूद पता नहीं क्‍यों प्रशासन नगर नि‍गम को क्‍यों नजर अंदाज कि‍ये चले  हुए है और भरपूर संसाधानों को झोकेने के बावजूद महानगर के हालात दि‍न ब दि‍न बिगाड़ते ही जा रहे हैं।
नगर नि‍गम की बैठकें स्‍थगन औचि‍त्‍य हीन
उन्‍होंने कहा कि‍ आपदा प्रबंधन के कार्यों में ज्‍यादातर काम नगर नि‍गम के संसधनों से ही हुए हैं कि‍न्‍तु इसके बावजूद मेयर के माध्‍यम तक से पार्षदों को जनकारी नहीं आ सकीं।
एक जानकारी में डा शि‍रोमणी ने कहा कि‍ नगर नि‍गम सदन तथा कार्यकारि‍णी की नि‍यमि‍त बेठकें टालने का औचि‍त्‍य अब तक समझ मे नहीं आया। एक ओर दि‍ल्‍ली में कैबीनेट से लेकर आगरा में जि‍ला प्रशासन तक की बैठकें हो रही हैं ,बस नगर नि‍गम की ही बैठक को कौरोना संक्रमण के नाम पर ही स्‍थगि‍त कि‍या जाता रहा है।