March 22, 2020

पब्लिक कर्फ्यू : इंसानों के आभाव में आगरा के बन्दर डिप्रेशन में

फोटो : असलम सलीमी 
आगरा। शहर में पब्लिक कर्फ्यू को पूर्ण सफलता मिली है। किन्तु  जनता कर्फ्यू से शहर के बन्दर काफी  चकित हैं।  बानर सेना  समझ नहीं पा रही है  कि आगरा के इंसान कहाँ चले गए। बतादें आगरा ताजमहल के साथ साथ शैतान मकाक  बंदरों के लिए भी प्रसिद्ध है।बंदरों का हिंदू धर्म में विशेष  महत्व है । रामायण के अनुसार, बंदर भगवान हनुमान की सेना का हिस्सा थे। ये सही है  वे खुद को आगरा का  राजा महसूस कर रहे हैं किन्तु उनकी  चिंता का विषय यह है  कि यदि इस शहर में इंसान नहीं  होंगे  तो यह शहर पत्थरों का जंगल बन जायेगा।  खाने पीने की जुगाड़ कैसे लगेगी। देखने से लगता है की वे डिप्रेशन का शिकार हुए लगते हैं। यह सत्य है  बन्दर हमारे पूर्वज और साथी  हैं ,बड़े बुद्धिमान होते हैं, कोई न कोई तरीका अवश्य निकाल लेंगे। नवीनतम सर्वेक्षण के अनुसार, आगरा  जिले में बंदरों की संख्या  लगभग 6 लाख से अधिक होने का अनुमान है।