March 18, 2020

कोरोना को फैलने से रोकने के लिए भारतीय रेल ने उठाए ठोस कदम

नई दिल्ली -  देश की सबसे बड़ी परिवहन व्‍यवस्‍था, भारतीय रेल ने देश में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए कई कदम उठाए हैं। रेल तथा वाणिज्‍य एवं उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल ने इस संबंध में भारतीय रेल की तैयारियों की प्रगति की समीक्षा की। इस बैठक में वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए रेलवे बोर्ड के अध्‍यक्ष व सदस्‍यों, महाप्रबंधकों तथा मंडल रेल प्रबंधकों ने भाग लिया।

रेलवे बोर्ड के अध्‍यक्ष ने रेल मंत्री को कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लागू किए गए विभिन्‍न उपायों,प्रयासों की जानकारी दी। जिसके अंतर्गत ,किसी आकस्मिक स्थिति के लिए संपूर्ण रेलवे नेटवर्क में क्‍वारंटाइन सुविधाओं का निर्माण, सभी ट्रेनों और रेलवे स्‍टेशनों में सफाई और स्‍वच्‍छता का और अधिक ध्‍यान रखना।

2.      स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय द्वारा जारी किए गए विभिन्‍न परामर्शों, कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग द्वारा जारी निर्देश- एक दूसरे से आवश्‍यक दूरी बनाए रखना, अनावश्‍यक यात्रा से बचना, संक्रमण से संबंधित रोकथाम के उपाय तथा वायरस को फैलने से रोकने के लिए अन्‍य उपायों का प्रचार-प्रसार करना।

3.      राज्‍य सरकारों की सहायता से विभिन्‍न स्‍टेशनों पर हेल्‍प डेस्‍क उपलब्‍ध कराए गए हैं।

4.      रेल कोचों, शौचालयों, भोजनयानों की साफ-सफाई; ट्रेनों, प्‍लेटफॉर्मों और कार्यालयों में यात्रियों द्वारा उपयोग की जाने वाली वस्‍तुओं, स्‍थानों पर पानी और साबुन/सैनेटाइजर की उपलब्‍धता।  

5.      सामूहिक सभा, प्रशिक्षण, सम्मेलन आदि से संबंधित बैठकों को हतोत्साहित किया जा रहा है।

6.      स्क्रीनिंग और सफाई से जुड़े कर्मचारियों को आवश्यक गैजेट्स की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है।

7.      रेलवे स्टेशनों और ट्रेनों के पीए सिस्टम पर नियमित रूप से घोषणाएं की जा रही हैं। इन घोषणाओं में शामिल हैं- क्‍या करें और क्‍या न करें से संबंधित जानकारी से आम लोगों को अवगत कराना, बार-बार हाथों को धोना, एक दूसरे से आवश्‍यक दूरी बनाए रखना, छींकने और खांसने के दौरान मुंह को ढ़कना, यदि किसी को बुखार है तो सावधानी बरतना (यात्रा न करें और तुरंत डॉक्टर के पास रिपोर्ट करें) और रेल परिसर में कहीं भी न थूकें।   

उन्होंने जानकारी दी की कि सभी हितधारकों को निर्देश दिए गए हैं कि वे कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए रेलवे स्टेशनों पर अनावश्यक भीड़ न होने दें। मंडल रेल प्रबंधकों को रेलवे स्टेशनों पर स्थिति की समीक्षा करने की सलाह दी गई है। स्‍टेशनों पर अनावश्‍क भीड़भाड़ को रोकने के लिए प्‍लेटफॉर्म  टिकटों की कीमत बढ़ाकर 50 रूपये करने की भी सलाह दी गई हैं।

भारतीय रेलवे के प्रयासों की सराहना करते हुए, रेल मंत्री ने सभी संबंधित लोगों को निर्देश दिया कि उन्‍हें कड़ी मेहनत जारी रखनी है जब तक की महामारी के विरूद्ध लड़ाई पर जीत हासिल न हो। उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा की गई सराहना के बारे में भी बताया। रेल मंत्री ने इस मामले में कार्यों की निरंतर निगरानी के लिए अतिरिक्त उपायों के निर्देंश दिए :

मंत्रालय के अधिकारियों और विभिन्न रेलवे जोन के के बीच बेहतर समन्वय के लिए ऑनलाइन डैशबोर्ड का निर्माण। इस डैशबोर्ड के माध्यम से कोविड-​​19 की तैयारियों की प्रगति की ऑनलाइन निगरानी की जा सकेगी।
कोविड-​​19 त्‍वरित प्रतिक्रिया टीम का गठन। इसमें रेलवे बोर्ड के 6 कार्यकारी निदेशक होंगे, जो सभी जोन में भारतीय रेल के प्रयासों का समन्वय करेंगे। प्रत्येक जोन का एक नोडल अधिकारी कोविड-​​19 त्‍वरित प्रतिक्रिया टीम के संपर्क में रहेगा और वह अपने जोन में सभी तैयारियों/उपायों के लिए प्‍वाइंट पर्सन के रूप में कार्य करेगा।  
यात्रियों के लिए परामर्श जारी किए जाएंगे जिसमें यात्रियों को अनावश्‍यक यात्रा नहीं करने और बुखार से पीडि़त होने पर यात्रा नहीं करने की सलाह दी जाएगी। यात्रा के दौरान यदि कोई यात्री को बुखार अनुभव होता है तो वह चिकित्‍सा व अन्‍य सहायता के लिए रेलकर्मियों से से संपर्क कर सकता है।
      भारतीय रेल में पूरे देश स्‍तर पर उपरोक्त निर्देशों के अनुपालन की निरंतर निगरानी की जाएगी।