September 5, 2017

उ प्र में बेराजगारी बदत्तर स्थिति में ,विकास ठप:सपा

--कानून व्यवस्था को लेकर भाजपा पर साधा निशाना
सपा महानगर सम्‍मेलन में अध्‍यक्ष रईसुद्दीन ,ममता टपलू, अतीकुर्रहमान,विपुल पुरोहित आदि    --फोटो असलम सलीमी

आगरा: समाजवादी पार्टी ने प्रदेश में बढते सांप्रदायिक माहौल और लडखडाती कानून व्यकवस्था पर गंभीर चिंता जताई है।पार्टी की महानगर इकाई के माथुर वैश्य सभागार मे आयोजित सम्मेलन को सम्बेधित करते हुए प्रदेश पार्टी की ओर से नियुक्त प्रभारी मंत्री,विधायक अतिकुर्रहमान ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने झूंट बोल और गलत वायदों से जनता को गुमराह कर सत्ता  तो जरूर प्राप्त् कर ली किन्तु अब
वह केवल सांप्रदायिक मुद्दों को उठते रह कर सत्ता में बने रहने की जोडतोड तक सिमिट कर रह गयी है।उन्होंने कहा कि आने वाला समय और भी बडी चुनौतियों से भरा हुआ रहना है।जिसमें हालातों का मुकावला करने और जनता की लडाईयां लगातार लडते रहना होगा। इसके लिये  पार्टी जनों से  सकिय रहकर के  जनता को लामबन्द  करने के काम मे  जुटे रहना होगा।
सपा महानगर सम्‍मेलन में खचाखच भरा  माथुर वैश्‍य सभागार                                        फोटो :असलम सलीमी
पार्टी के महानगर अध्‍यक्ष रईसुद्दीन कुरैशी ने कहा कि आगरा में विकास कार्यठप पडे हुए हैं।गरीब लोगों की जिंदगी में कठनाईयों की लगातार बढोत्‍तरी हो रही है।अफसरशाही सत्‍तादल की गुलाम बन कर रह गयी है।
 माथुर वैश्य  सभागार में पार्टी के कार्यकत्ता ओं को संबाधित करने वालों में  अभिनव शर्मा,पूर्वमंत्री विपुल पुरोहित,श्रीमती ममता टपलू, अतुल गर्ग, श्याम भोजवानी, पप्पू  राघव, मनोज गुप्ताु,सौरभ गुप्ताू,मुकेश सिटी, विनोद श्रेत्रिय, अमीर फौजदार, अनूप यादव,निर्वेश शर्मा, अतुल गर्ग, शिव सिंह यादव,वाली शेर, राम सकल गुर्जर आदि शामिल थे।
प्रभारी मंत्री श्री अतीकुर्रहमान ने  पार्टी जनों प्रदेश पार्टी के द्वारा जारी पत्र पढकर भी सुनाया।
महानगर पार्टी के सम्मेलन के साथ ही जनपद स्तटरीय सम्मेलन भी संजय प्लेस में आयोजित हुआ जिसमें जनपद भर से आये कार्यकर्त्‍ताओं ने भाग लिया।ये दोनों ही सम्‍मेलन सपा की विधान सभा चुनाव में करारी हार के बाद होने वाले बडे आयोजन हैं।महानगर के आयोजन का महत्व  इस लिये और अधिक है क्यों कि नवम्बर मे नगर निगम के चुनाव होने वाले हैं और सपा के द्वारा इस चुनाव में भाजपा को कडी टक्कर देने वाली मुख्य  पार्टी माना जाने लगा है। मुस्लिम समाज का पार्टी के प्रति बना चल रहा रुख इसकी मुख्य वजह माना जा रहा है। महानगर के 30 म्‍यूनिस्पिल वार्डों में मुस्लि‍म मतदाता निर्णायक की भूमिका में माने जा रहे हैं,बशर्त उनके वोट बंटने से रोकने की राजनीति में समाजवादी पार्टी अपना असर दिखाने की स्थिगति में हो।