July 7, 2017

आगरा के पिच्यानवे गांव शराब बंदी के पक्ष में

-- निगम चुनाव के दौरान प्रत्याशियों से संकल्प करवाने का होगा प्रयास
गांधीवादी नेता चिम्‍मन लाल नशाबन्‍दी आंदोलन में सहयोगी लव गुरू के साथ।
आगरा:जनपद में नशा विरोधी आंदोलन चलाते रहने को संकल्पशील श्री चिम्मसन लाल जैन अब तक जनपद के 95 गांवों में पंचायतें कर नागरिकों को अपने अभियान से जोड चुके हैं। इन गांवों में से अधिकांश में उन्होंनने पर्चे बांटे,महिलओं की असरदार भगीदारी वाली खुली पंचायतें की । यही नहीं गांवों  अधिकांश में संचालित शराब के ठेकों के खिलाफ पिकैटिंग और मीटिगे की ।कुछ स्थाोनों पर तो उनके नेतृत्व  में विरोध जताने को ‘मिट्टी के डेल’ भी फेंके गये।
श्री चिम्‍मनलाल ने बताया कि उनका लक्ष्य शराब  की खपत को तेजी के साथ घटाना है, इसके लिये वह नागरिक
लामबंदी को लगातार प्रभावी बनाने को प्रयासरत है। यही नहीं सरकार के द्वारा बनाये गये अपने ही नियमों के विरुद्ध उठाई गयी दूकानें संचालित करने के विरूद्ध आवाज उठाने का सिलसिला चलाने से जनहितो के विरुद्ध इनसे होने वाले कारोबार के संचालन में मुश्किलें बढी हैं।
एक जनकारी में बताया कि धौलपुर के एक आध्यात्मिक महानुभाव का शराब विरोधी आंदोलन को भारी समर्थन रहा है,आगरा के सैंया और फतेहाबाद  विकास खंड में गुर्जर समाज में उनका बहुत सम्मान है।जिसका उन्होंने शराब बन्दी् के लिये उपयोग किया है।जिसके लिये वह उनका आभार मानते हैं। कमोवेश इसी प्रकार वह गरीब पार्टी के संचालक वाल योगी ‘लव- गुरू’ के द्वारा अंदोलन में की गयी सहभागिता को भी महत्वेपूर्ण मानतें ।
एक जानकारी में श्री चिम्मिन लाल ने कहा कि महानगर की साठ से ज्यादा बस्तियों में शराब के विरुद्ध नागरिकों की बडी संख्या ने एक जुटता दर्शायी है। उनकी कोशिश है कि नगर निगम के आने वाले चुनाव में वह पार्षद और मेयर के रूप में चुनने को चुनाव लडने वालों से शराब को लेकर उनके विचार जाने तथा आग्रह करें कि चुने जाने पर शराब रोकने के प्रयासों में सहभागी बनें। यही नहीं चुनाव अभियान के दौरान नागरिकों के सामने शराब बिक्री के समर्थक ओर विरोधियों की सूची भी जारी करेगे जिससे जनता मतदान करते समय हकीकतों को जान - समझ कर ही मतदान करे। उन्होंने  कहा कि शराब बंदी  आंदोलन को असरदार बनाये जाने में  उनके साथ एक बडी जन शक्ति है जिसमें आम नागरिकों खासकर महिलाओं की बडी भागीदारी हे।