June 8, 2017

डिजीयात्रा देगा विमान यात्रियों को एक नया डिजिटल अनुभव

नई दिल्ली। नागरिक उड्डयन मंत्रालय डिजीयात्रा प्‍लेटफॉर्म के जरिये विमान यात्रियों को डिजिटल अनुभव कराने जा रहा है।नागरिक उड्डयन राज्‍य मंत्री  जयंत सिन्‍हा ने कहा कि यात्रियों को  अपने सफर के दौरान एक निर्बाध, निरंतर एवं कागज रहित सेवा का अदभुत अनुभव होगा। ‘डिजीयात्रा’ उद्योग जगत की अगुवाई में एक विशिष्‍ट पहल है, जिसमें नागरिक उड्डयन मंत्रालय प्रधानमंत्री  मोदी के डिजिटल इंडिया विजन के अनुरूप अपनी ओर से सहयोग प्रदान करेगा, जिसके तहत देश को डिजिटल ढंग से सशक्‍त समाज के रूप में परिवर्तित करना है। यह कदम एयर सेवा के बाद उठाया गया है, जिसके तहत उपभोक्‍ता शिकायतों के निवारण एवं वास्‍तविक समय पर डेटा प्रसारित करने के लिए सभी हितधारकों को एक साझा प्‍लेटफॉर्म पर एकजुट किया जाएगा।

            केन्‍द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री  पी अशोक गजपति राजू ने उम्‍मीद जताई कि डिजीयात्रा पहल से विमान यात्रियों के हवाई सफर अनुभव में व्‍यापक बदलाव आएगा और इसके साथ ही भारतीय उड्डयन क्षेत्र की गिनती दुनिया के सर्वाधिक अभिनव हवाई नेटवर्कों में होने लगेगी।

            नागरिक उड्डयन राज्‍य मंत्री  जयंत सिन्‍हा ने आज ‘डिजीयात्रा’ पर रिपोर्ट पेश की।  सिन्‍हा ने इस अवसर पर मंत्रालय की ‘डिजीयात्रा’ पहल के बारे में मीडिया को जानकारी भी दी। उन्‍होंने कहा कि ‘डिजीयात्रा’ पहल का उद्देश्‍य एक ऐसा डिजिटल परितंत्र विकसित करने के लिए समूचे उद्योग जगत को एकजुट करना है, जिससे विमान यात्रियों को अपने सफर के दौरान एक निर्बाध, निरंतर एवं कागज रहित सेवा का अदभुत अनुभव होगा। नागरिक उड्डयन राज्‍य मंत्री  सिन्‍हा ने यह जानकारी दी कि मंत्रालय ने एक तकनीकी समिति का गठन किया है, जिसमें उद्योग जगत के हितधारक शामिल हैं। यह समिति 30 दिन के अंदर अपनी सिफारिशें पेश करेगी। इन सिफारिशों पर आम जनता की टिप्‍पणियां भी प्राप्‍त की जाएंगी और इन पर अगले 30 दिनों तक परिचर्चाएं होंगी। इसके बाद एक समयबद्ध कार्ययोजना तैयार की जाएगी।

            सिन्‍हा ने कहा कि डि‍जीयात्रा पहल का उद्देश्‍य भारत में हवाई सफर करने वालों को अपनी यात्रा के दौरान अभिनव एवं डिजिटल ढंग से एकीकृत उड़ान अनुभव प्रदान करना है। उड्डयन क्षेत्र के सभी हितधारक डिजिटल मानक तैयार करने में जुट गये हैं, जिनमें एयरलाइंस, एयरपोर्ट के संचालक, सुरक्षा और आव्रजन एजेंसियां, कैब ऑपरेटर, खुदरा प्रतिष्‍ठान इत्‍यादि शामिल हैं। इन डिजिटल मानकों के तैयार हो जाने पर डेटा एवं सूचनाओं का निर्बाध आदान-प्रदान संभव हो पाएगा। उन्‍होंने कहा कि इन मानकों से ऐसे अनूठे एप तैयार करने में मदद मिल सकती है, जिनसे विमान यात्रियों को आनंदमय अनुभव हो सकेगा।