December 1, 2016

आगरा का टूरिज्म और पेठा उद्योग ठप होने के कागार पर

--बेरोजगारी के दौर से त्रस्त सपा मजदूर सभा के श्रमिकों ने  जताया आक्रोष 

 नोटबंदी के खिलाफ महानगर अध्‍यक्ष रईसुद्दीन कुरैशी और जयपाल
  यादव के नेतृत्‍व में  सपाई हुए लामबद।  फोटो:असलम सलीमी
आगरा:समाजवादी पार्टी ने भारत सरकार के नोटबंदी फैसले को भारत की आधारभूत अर्थव्यवस्थाा के लिये घातक अदूरदर्शिता वाला ऐसा फैसला करार दिया है,जिससे आम आदमी के रोजीरोटी कमाने के अवसर नगण्यय हो गये हैं।प्रदेश के अन्यक भागों के समान ही आगरा में बेरोजगरी के अभूतपूर्व हालात बन गये हैं। 
समाजवादी पार्टी मजदूर सभा के द्वारा नोटबंदी के फैसले के खिलाफ श्रमिकों को लामबन्दी कर महानगर के मुख्य मार्गों से जुलूस निकाल कर कलैक्ट्रेट पर जमकर प्रदर्शन किया
गया।संगठन के प्रदेश सचिव जयपाल यादव और महानगर अध्यक्ष प्रतीक यादव ने कहा है कि इस समय सबसे कठिन दौर उन लोगों के सामने है ,जो काम धंधे बन्द हो जाने से पिछले पंद्रह दिन से बेरोजगार है। इनमें से अधिकांश के पास न तो एटीएम कार्ड है और नहीं बैंक एकाऊंट ही।
समाजवादी पार्टी के माहनगर अध्यीक् रईसुद्दीन कुरैशी ने कहा है कि आगरा का जूता और पर्यटन उद्योग नोटबंदी से ठप प्राय है। नुनिहाई और सिकन्दरा इंडस्ट्रियल इस्टे्ट सहित ज्यादातर अन्य स्थानों पर स्थित इंडिस्ट्रियल इकाईयां बन्द हैं जिसका सीधा असर श्रमिकों के रोजगार अवसरों पर पडा है।यही स्थिति आगरा के प्रमुख पेठा उद्योग में भी है। नोटबंदी के कारण खरीदारा के ना होने से नया उत्पादन तो दूर बना पडा माल  तक समस्या बना हुआ है। 
प्रदर्शन में चन्द्रा सेन टपलू,क्षमाजैन सक्सेना,नगमा बेगम,कयामुददीन, श्याम भेजवानी,अमीरसिंह, जिया जाफरी, महेश चन्द्रो अग्रवाल , आदि की भी नेतृत्व में सक्रिय सहभागिता रही।