November 24, 2015

आगरा स्मार्ट सिटी वोटिंग कम्पटीशन में चुनौती देने के मुकाम पर

--2007 में शहरवासियों ने ताजमहल को सेविन वंडर कंपटीशन लडाने के लिये डाले थे वोट

आगरा: आगरा के नागरिक विधायकों ,सांसद से लेकर ग्रामपंचायत सदस्‍य के चुनाव के लिये तो वोटिग
करते ही है किन्‍तु अपने शहर के लिये भी । वर्तमान में महानगर को स्‍मार्ट बनाये जाने के लिये वोटिग करवायी जा रही है, पूर्व में तजमहलको सातवां अजूबा सूची में पहला स्‍थान दिलवाने के लिये वोट डलवाये गये थे।ताजमहल के लिये वोट का कंपटीशन आयोजन स्‍विस कंपनी इंटरनेशनल सेविन वंडर फऊंडेशन ने किया था ।जबकि इस बार का कंपटीशन स्‍थानीय निकाये विभाग की देखरेख में ही चल रहा है।
उस वक्‍त नगरायुक्‍त श्‍यामसिय यादव थे और मेयर श्रीमती अंजुला सिह माहौर जबकि वर्तमान में श्री इन्‍द्र विक्रमसिह नगरायुक्‍त और मेयर इंन्‍द्रजीत आर्य हैं।ताजमहल के लिये वोटिग रेस मे पहला रहा आगरा अब स्‍मार्ट सिटी
कंपटीशन में किस नम्‍बर पर रहता है यह वोटिग प्रक्रिया पूरी होन के बाद ही पता लग सकेगा ,यह बात अलग है कि पूर्व की तरह ही इस बार भी मतदान अवैज्ञानिक व अतर्क पर आधारित है। आगरा इस समय उ प्र के महानगरों में चाथे नम्‍बर पर है किन्‍तु कभी स्‍टेटस बदलजाने के संकेत हैं।
 एक स्‍थानीय अखबार  की रिपोर्ट में तो आगरा सूबे में वोटिंग के लिहाज से आगरा को नंबर वन के पायदान पर पहुंच  चुका घोषित कर दिया गया है। जबकि  सुझावों के मामले में फिलहाल शहर चौथे नंबर पर यानि सहारनपुर, इलहाबाद और अलीगढ से भी पीछे बताया गया है।

दिलचस्‍प तथ्‍य है कि शहर के लिये चल रहे इस चुनाव-चुनाव या वोट –वोट के खेल में राजनीज्ञ और राजनैतिक दल पूरी तरह से उदासीन हैं जबकि शहर की अवस्‍थापना सुविधाओं को लेकर मामले उठाये जानेके लिये खुद मंच बननेमें सबसे आगे रहते आये हैं।