March 28, 2020

पैदल निकले प्रवासी मजदूरों की भूख को समझा आगरा के महापौर नवीन जैन ने

( महापौर जैन प्रवासी  मजदूरों  के साथ )
आगरा - पूरे देश लॉक डाउन होने के बाद NH-2 और एक्सप्रेस वे पर विभिन्न राज्यों से आगरा होकर जाने वाले लोगों को महापौर नवीन जैन ने  खाना   वितरित किया। साथ ही श्री जैन ने  लोगों से हालचाल पूछे तथा उनका मनोबल बढ़ाया। आर्थिक सहायता के लिए उन्होंने प्रत्येक को 500-500 रुपये  भी दिए । श्री जैन आगरा की धरती से गुजरते लोगों में से कि‍सी को भी    भूखा नहीं जाने  देना चाहते थे।                                                          बतादें प्रधानमंत्री  द्वारा कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए  अचानक लम्बे लॉक डाउन की घोषणा के सुनते ही  देश भर में मज़दूरों का  बहुत बड़ा प्रवास शुरू हो गया । सार्वजनिक बस  परिवहन भी चलना बंद हो गए ।  लोगों का कहना था तालाबंदी चरणबद्ध तरीके से की जानी चाहिए थी।  बिना काम के, बिना आय के दूसरे राज्यों के मज़दूर  अपने घर से दूर नहीं  फंसे  रहना चाहते थे । इसलिए उन्हें पैदल का सहारा लेना पड़ा। 

प्रवासी कामगारों को घर तक पहुँचाने के लिए उ प्र सरकार ने भेजीं 1,000 बसें

( पैदल चल रहे  कामगार घर बहुत  दूर  )
लखनऊ -  उत्तर प्रदेश सरकार ने दिल्ली-यूपी सीमा पर फंसे तथा पैदल चल रहे  प्रवासी कामगारों और उनके परिजनों को घर तक पहुँचाने के लिए 1,000 बसें दी   हैं। मुख्यमंत्री  योगी के सूचना सलाहकार मृत्युंजय ने  बताया  कि  शुक्रवार से इन लोगों की दुर्दशा को लेकर मुख्यमंत्री  काफी चिंतित थे।  उन्होंने परिवहन विभाग के अधिकारियों के साथ एक बैठक की, जिसमें यह निर्णय लिया गया कि उत्तर प्रदेश  सरकार इन कामगारों  तथा उनके परिवारों को  उनके घर तक पहुँचाने  के लिए बसों का बेड़ा भेजेगी । मुख्यमंत्री  योगी ने  कहा कि हमें लगभग 1,000 बसों की जरूरत थी क्योंकि न केवल यूपी के लोग बल्कि बिहार के लोग भी दिल्ली-यूपी बॉर्डर  पर फंसे हुए थे। इन कामगारों और उनके

March 27, 2020

आगरा का 'गरीब खाना ' जहां दो दशक पूर्व तक रईस भी आते थे संक्रामक रोगों के इलाज को

जन-स्‍वास्‍थ्‍य प्रबंधन कार्य योजना में 'आई डी एच  ' अस्‍पताल को शामि‍ल कर सुचारु करवाया जाये

( आई डी एच परि‍सर का भ्रमण कर पूर्व स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री
 डा हरि‍त ने यादें ताजा कीं। फोटो:असलम सलीमी )
आगरा: प्रदेश के पूर्व स्‍वास्‍थ्‍य राज्‍य मंत्री डा रामबाबू हरि‍त ने कहा है कि‍ आगरा जनस्‍वास्‍थ्‍य एवं समय रहते उसके उपचार की दृष्‍टि‍ से हमेशा अत्‍यंत जागरूक रहा है,यही कारण है कि‍ यहां पूराने समय से ही जटि‍ल और संक्रामक रोगों (Infectious diseases) के इलाज की व्‍यापक व्‍यवस्‍थायें रही है।  उन्‍होंने मौजूदा कोरोना वायरस की संक्रमणता से आगरा को यथा संभव न्‍यून असरवाला रखने के लि‍ये ' सोशल डि‍स्‍टेंसि‍ग '  को आगरा में प्रभावी हो जाने को एक बडी कामयाबी बताते हुए उम्‍मीद जताते हुए कहा है कि मुख्‍यमंत्री आदि‍त्‍यनाथ जी के नेतृत्‍व में रोकथाम के उपाये अब पूरी तरह से कामयाब हो चुके है।
उन्‍हों ने कहा कि‍ मानसि‍क आरोगय शाला, गांधी कुष्‍ठ आश्रम ,लेडी लायल हॉस्‍पि‍टल (महि‍ला चि‍कि‍सलय) आदि‍ वे पुराने स्‍वास्थ्‍य संबधी प्रति‍ष्‍ठान  हैं जि‍न्‍हें मौजूदा जनस्‍वास्‍थ्‍य सुवि‍धाओं को उपलब्‍ध करवाने वाली सुवि‍धाओं को संभव करवाने का ढाचागत आधार

'सैल्‍फ सर्टि‍फि‍केशन' सि‍स्‍टम को वैधानि‍क स्‍वीकृति‍ प्रदान कर 'कोरना वायरस ' का असर धराशाही करें

 'सोशल डिस्टेंसिंग' और डि‍स्‍ट्रीब्‍यूशन चेन के लि‍ये भी 'आत्‍म प्रमाणीकरण' है उपयोगी 

                                                                    ( राजीव सक्सेना )
( पुलि‍स को संतुष्‍ट कर 'डेंडे बाजी' से बचने  का
एकमात्र वि‍कल्‍प 'सैल्‍फ सर्टि‍फि‍केशन' )
आगरा - कौरोना वायरस को लेकर तो जनता परेशान है ही कि‍न्‍तु उससे कही ज्‍यादा समस्‍या बढ़ रही  नागरि‍क जरूरतों की आपूर्ति‍ चेन में आये व्‍यवधान को लेकर,  जि‍सके फलस्‍वरूप नागरिकों  को सरकार की 'लॉकडाउन' आदेश का पालन करने में आत्‍म अनुशासन की स्थिति  न बनपाने के कारण आ रही है। जरूरत का सामन लेने नि‍कलने को मजबूर नागरिकों पर जम कर पुलि‍स 'डंडा इस्‍तेमाल' कर रही है। यह सब इस लि‍ये हो रहा है क्‍यों कि‍ पुलि‍स वालों के पूछने पर भी सड़क   पर नि‍कलने वालों में से अधि‍कांश घर  से बाहर आने का कारण नहीं बता पा रहे हैं।पुलि‍स को संतुष्‍ट कर 'डेंडे बाजी' से बचने  का एक मात्र वि‍कल्‍प 'सैल्‍फ सर्टि‍फि‍केशन'

 'जनता-पुलि‍स-दूकानदार' ट्रांइगुलर सीरि‍ज :

चूंकि‍ एक ओर  सरकारी तंत्र जरूरी सामान की पहुंच शासन के द्वारा की गयी घोषणाओं के अनुसार करवा नहीं सका है, दूसरी ओर 'सोशल डि‍स्‍टैसि‍ग ' का पालन करते हुए जरूरी सामान इतजाम करने के लि‍ये नि‍कलने वालों के लि‍ये कोयी नि‍यंत्रि‍त व्‍यवस्‍था प्रभावी नहीं हो सकी है। फलस्‍वरूप  'जनता-पुलि‍स-दूकानदार' ट्रांइगुलर सीरि‍ज ताज सि‍टी की सडको पर अनवरत चालू रही ।
दरअसल कोरोनटाइन का अब वह गंभीर

March 26, 2020

अगले तीन महीनों में 8 करोड़ गरीब परिवारों को गैस सिलेंडर मुफ्त

( श्रीमती निर्मला सीतारमण )
नई दिल्ली - केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने ‘कोरोना वायरस’ के खिलाफ लड़ाई लड़ने में मदद करने के उद्देश्‍य से आज गरीबों के लिए ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना’ के तहत 1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की। आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए श्रीमती सीतारमण ने कहा, ‘आज किए गए विभिन्‍न उपायों का उद्देश्य निर्धनतम लोगों के हाथों में भोजन एवं पैसा देकर उनकी भरसक मदद करना है, ताकि उन्‍हें आवश्यक आपूर्ति या वस्‍तुओं को खरीदने और अपनी अनिवार्य जरूरतों को पूरा करने में कठिनाइयों का सामना न करना पड़े।’वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य राज्य मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर के अलावा आर्थिक

March 25, 2020

लॉकडाउन को प्रभावी बनाये जाने को उतरी सि‍वि‍ल सोसायटी

आगरा के घटि‍या आजम खां ,मंडी सईदखां क्षेत्र में प्रभावी होगी होम डि‍लीवरी
घटि‍या चौराहे पर दि‍न भर चले 'लॉकडाउन ' के 'एजूकेशनल '
 प्रोगाम के पीरि‍यड।

 आगरा: महानगर के तमाम इलाकों के समान ही पुराने  घने बसे घटि‍या आजम खान क्षेत्र में कोरोना वायरस के खतरे को नि‍ष्‍प्रभावी बनाये जाने के लि‍ये कि‍ये गये राष्‍ट्रव्‍यापी 'लाक डाउन ' आह्वन को घटि‍या आजम खां क्षेत्र में प्रभावी बनाये  जाने को घटि‍या  के चौराहा  ट्रैफि‍क मैनेजमेंट कमेटी  और सि‍वि‍ल सोसायटी आगरा के वालैंटि‍यर सक्रि‍य रहे। उनके द्वारा  मंडी सईद खां , घटि‍या आम खां और मोतीलाल नेहरू रोड क्षेत्र में लोगों को घर में ही रहने के लि‍ये समझाते रहने के साथ ही 'सेाशल डि‍स्‍टेंसि‍ग ' के लि‍ये भी दि‍नभर सक्रि‍य बनाये रखा। 
सोसायटी के जर्नल सैकेट्री अनि‍ल शर्मा ने कहा कि‍ 'लाक डाउन' का पहला दि‍न अत्‍यंत चुनौती भरा रहा। इस दौरान कम से कम दो बार लागों के द्वारा जरूरी सामान खरीदने के लि‍ये सडक पर आने की  कोशि‍श की गयी कि‍न्‍तु अंतत: वे 'सोशल डि‍स्‍टैंसि‍ग ' की औपचारि‍क्‍ता

भारत द्वारा 400-500 रुपये का परीक्षण किट विकसित करने की उम्मीद

नई दिल्ली - कोविड-19 महामारी का मुकाबला करने के लिए सीसीएमबी के निदेशक डॉ राकेश मिश्रा ने इंडिया साइंस वायर से बताया कि हम अपनी इनक्यूबेटिंग कंपनियों की मदद कर रहे हैं, जो परीक्षण किट विकसित करने का विचार लेकर आए हैं और हम उनका समर्थन भी कर रहे हैं। हम उनके द्वारा प्रस्तावित नैदानिक किट का परीक्षण और सत्यापन कर रहे हैं। जल्दी ही हम कुछ अच्छे किट के साथ आ सकते हैं और अगर सब कुछ ठीक रहा तो यह नैदानिक किट 2-3 सप्ताह में विकसित हो सकती है। परीक्षण किट के मामले में उसकी गुणवत्ता और सटीक नतीजे सबसे महत्वपूर्ण होते हैं। यदि किट 100 प्रतिशत परिणाम देती हैं, तो उन्हें मंजूरी दी जाएगी।
संस्थान इस परीक्षण किट की लागत को भी ध्यान में रख रहा है। डॉ मिश्रा ने बताया कि हमारा अनुमान

March 23, 2020

घरेलू व्यावसायिक विमान कंपनियों का परिचालन 24 मार्च से बंद

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि लोग देश में लॉकडाउन को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। श्री मोदी ने एक ट्वीट के जरिए लोगों से अपील करते हुए कहा कि वे राज्य सरकारों और केंद्र सरकार द्वारा दिए जा रहे निर्देशों का गंभीरता से पालन करते हुए अपने आप और अपने परिवार को बचाएं। उन्होंने राज्य सरकारों से अनुरोध किया कि वे लोगों से लॉकडाउन का पालन करवाएं। उधर सरकार ने  घरेलू व्यावसायिक विमान कंपनियों का परिचालन बंद करने के आदेश दे दिए गए हैं।  जो 24 मार्च, 2020 को मध्यरात्रि (23:59 बजे) से प्रभावी होगा। सरकारी आदेश अनुसार