12 फ़रवरी 2021

विश्व रेडियो दिवस : बचपन के दिनों की यादें

 

( देवानंद और अमीन   सयानी )
आज विश्व रेडियो दिवस है। इस अवसर पर  लोगों को  अपने बचपन के दिनों की याद आना स्वाभाविक है । जब लोग अमीन  सयानी और बिनाका गीत माला का हर सप्ताह इंतज़ार करते  थे । बचपन के दिनों  गली गली में हर सप्ताह  इंतज़ार रहता था कि इस सप्ताह पहली  बदान पर कौन सा गाना पहुँचता है। उस समय  HMV का बड़ा रेडिओ का बड़ा प्रचलन था । 

                                      बिनाका  गीतमाला 1952 से 1988 तक रेडियो सीलोन पर प्रसारित किया गया था और फिर 1989 में अखिल भारतीय रेडियो नेटवर्क के विविध भारती सेवा में स्थानांतरित कर दिया गया, जहां यह 1994 तक चला।गली गली में लोग बिनाका अपने रेडियो के  फुल वॉल्यूम पर सुनकर  आनंद लेते थे।

                       यह भारतीय फिल्म गीतों का पहला रेडियो उलटी गिनती शो था। इसका नाम  बिनाका द्वारा इसके प्रायोजन को दर्शाता है।  इसके बाद के अवतार सिबाका के नाम पर - सिबाका संगीतमाला, सिबाका गीतमाला, और कोलगेट सिबाका संगीतेमाला भी चले।

11 फ़रवरी 2021

दिल्ली और देहरादून के बीच नया कॉरिडोर यात्रा समय को घटाकर सिर्फ 2.5 घंटे कर देगा


 दिल्ली-सहारनपुर-देहरादून आर्थिक गलियारा, जिस पर काम चल रहा है, बन कर तैयार हो जाने पर दोनों शहरों के बीच की दूरी 235 किलोमीटर से घटकर 210 किलोमीटर हो जाएगी और यात्रा अवधि जो अभी 6.5 घंटा है वह केवल 2.5 घंटा रह जाएगा। यह देश का पहला राजमार्ग होगा जहां वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए 12 किलोमीटर लंबा एलिवेटेड कॉरिडोर होगा। ईपीसी मोड के तहत परियोजना को पूरा करने का निर्णय लिया गया है।

पूरे कॉरिडोर को न्यूनतम 100 किमी प्रति घंटा की गति के साथ ड्राइविंग के लिए डिजाइन किया गया है।

इस कॉरिडोर पर ड्राइविंग करने वाले को बेहतर अनुभव देने के लिए हर 25-30 किमी की दूरी पर सुविधाओं का प्रावधान किया गया है। केवल उपयोग किए गए राजमार्ग की सीमा तक भुगतान करने में सक्षम बनाने के लिए क्लोज्ड टोल मैकेनिज्म को अपनाया जाएगा।

इस कॉरिडोर के विकास से इसके आसपास के क्षेत्र में अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है, विशेष रूप से उत्तराखंड में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

9 फ़रवरी 2021

भारत में कोविड रिकवरी दर दुनिया में सबसे अधिक

 

नई दिल्ली - भारत में  दैनिक कोविड  नए मामले नीघटते जा रहे हैं। पिछले 24 घंटों में मात्र  9,110 नए मामले दर्ज किए गए । दैनिक मामलों की कम संख्या और बढ़ती रिकवरी  ने सक्रिय मामलों में निरंतर गिरावट सुनिश्चित की है।भारत का कुल सक्रिय कोविद केस  भी आज घटकर 1.43 लाख (1,43,625) रह गया है। सक्रिय केस लोअड में अब भारत के कुल सकारात्मक मामलों का सिर्फ 1.32% रह गया है।

अब तक कुल 1.05 Cr (1,05,48,521) केस रिकवर  हुए हैं। पिछले 24 घंटों में 14,016 मरीज ठीक हुए हैं और उन्हें  छुट्टी दी  गई है। ठीक  रोगियों और सक्रिय मामलों के बीच का अंतर उत्तरोत्तर बढ़ता जा  रहता है।

संचयी रिकवरी में लगातार वृद्धि के साथ रिकवरी रेट 97.25% तक पहुंच गया  है, जो विश्व स्तर पर उच्चतम है। ब्रिटेन, अमेरिका, इटली, रूस, ब्राजील और जर्मनी में भारत की तुलना में रिकवरी दर कम है। 

7 फ़रवरी 2021

कोरोना वैक्‍सीनेशन : अनुकूल माहौल, राष्‍ट्र के साथ हम कदम है 'आगरा '

    --अपनी पारी आने पर कोरोना वैक्‍सीन जरूर लगवायें : डा श्रेय सारास्‍वत

                       फोटो:असलम सलीमी
आगरा: माहनगर के युवा चिकित्‍सक डा  श्रेय सारास्‍वत ने कहा है कि अब कोविड19 संक्रमण समाप्‍त होने की स्‍थिति में है,     अगर  थोडी  से भी सावधानी और बचाव के उपायों के प्रति सक्रियता लोगों के द्वारा बर्ती जाती रही तो अगले कुछ महीनों में यह अवांछित   जैविक संक्रमण बीते दिनों की बात हो जायेगी।यह मानना है डा. सारास्‍वत का , जो कि एम बी बी एस (डी एन बी), एनेथीसिया ऐंड क्रिटिकल केयर डाक्‍टर हैं तथा उन्‍हें एम्‍स दिल्‍ली के ,इनद्र प्रस्‍थ अपोलो नई दिल्‍ली के रैजीडैंट डाक्‍टर होने का अनुभव भी है। राजधानी के शोध परक कार्यों के लिये विशिष्‍ट पहचान रखने वाले चिकित्‍सा शोध संस्‍थान पुष्‍पावती सिहघानियां रिसर्च इंस्‍टीट्यूट चिराग नई दिल्‍ली से भी  सम्‍बन्‍धित रहे डा.सारास्‍वत 
 का मा
नना है कि कोविड 19' को पूरीतरस से समाप्‍त करने के लिये वैक्‍सीनेशन की प्रक्रिया तिहायत जरूरी है , लेकिन इसको प्रभावी व व्‍यापक बनाये जाने के लिये   नागरिक सहभागिता  सबसे महत्‍वपूर्ण  है।

डा. सारास्‍वत ने कहा कि कोरोना से निपटने में भारत की भूमिका अहम रही है, जहां पूर्व में कोरोना से बचाव को सरकार के द्वारा प्रचारित प्रोटोकॉल को राष्‍ट्रीय स्‍तर पर प्रभावी बनाये रखा गया ,वहीं टीको(वैक्‍सीनों) के अन्‍वेशण और उनकी उपलब्‍धता के मामले में भी भारत वैश्‍विक चर्चा में

कोविड टीके लगाने में भारत अब तीसरा सबसे बड़ा देश

 

नई  दिल्ली - भारत ने कोविड-19 के खिलाफ अपनी लड़ाई में एक अन्‍य वैश्विक ऊंचाई हासिल की है।  टीके लगाने की संख्‍या के मामले में दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश बन गया है। केवल अमेरिका और इंग्‍लैंड ही भारत से आगे हैं।भारत के 12 राज्‍यों में दो-दो लाख से अधिक लाभार्थियों को टीके लग गए हैं। अकेले उत्तर प्रदेश में ही 6,73,542 लाभार्थियों को टीके लग गए हैं।

7 फरवरी, 2021 प्रात: 8 बजे तक कुल 57.75 लाख (57,75,322) लाभार्थियों ने राष्‍ट्रव्‍यापी कोविड-19 टीकाकरण अभियान के तहत कोविड-19 के टीके प्राप्‍त कर लिए हैं। अ‍भी तक 53,04,546 स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों और 4,70,776 फ्रंटलाइन कर्मचारियों को टीकाकरण अभियान के तहत टीके लग गए हैं।