December 2, 2019

आगरा सि‍वि‍ल एन्‍कलेव का इंटरनेशनल सुवि‍धा वाले एयरपोर्टों की सूची में बनाये रखना होगा चुनौती

--स्‍विस फर्म की जैबर  में भागीदार तय हो जाने के बाद आगरा के सि‍वि‍ल एनकलेव का रास्‍ता भी साफ
अब शायद शि‍फ्ट हो सके धनौली
 

आगरा  : सि‍वि‍ल एन्‍कलेव आगरा को धनौली में शि‍फ्ट कि‍ये जाने का रास्‍ता अब लगभग साफ हो गया है, जि‍सका कारण ग्रेटर नौयडा के जैबर में बनाये जाने को प्रस्‍तावित इंटरनेशनल  एयरपोर्ट  के नि‍र्माण एवं दीर्घकालीन संचालन के  लिए ठेकेदार कंपनी के रूप में ज्यूरिख  फ्लूगफेन ज्यूरिख एजी,कंपनी को ठेका आवंटि‍त कि‍या जाना है। वर्तमान में यह कंपनी ज्‍यूरि‍ख इंटरनेशनल एरपोर्ट का संचालन कि‍या करती है। 
--नौयडा का उलझाव फि‍लहाल थमा
नौयडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लि‍मि‍टेड जो कि‍ उ प्र सरकार की स्‍पेशल परपज

December 1, 2019

आगरा को सात नए बार लाइसेंस मिले

( प्रमुख सचिव आबकारी भूसरेड्डी )
योगी सरकार ने प्रदेश के 14 जिलों में होटल और रेस्तरां को बार के नए लाइसेंस जारी किए हैं। जिसमें लखनऊ में आठ, आगरा में सात, गोरखपुर में छह, गौतम बुद्ध नगर में चार, प्रयागराज में तीन, वाराणसी, अलीगढ़ और बदायूँ में दो-दो और मिर्जापुर, मुरादाबाद, झाँसी, गाजियाबाद, बहराइच और  बरेली में एक-एक क नए लाइसेंस जारी किए गए हैं। प्रमुख सचिव (आबकारी) संजय भूसरेड्डी ने कहा कि इस कदम से न केवल गुणवत्तापूर्ण भारत निर्मित विदेशी शराब (आईएमएफएल) की उपलब्धता सुनिश्चित होगी बल्कि आबकारी विभाग के राजस्व में वृद्धि होगी और रसोइयों, वेटर, सुरक्षा गार्ड और स्वच्छता कर्मचारियों के लिए रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे।छले कुछ वर्षों में नए बार लाइसेंस जारी किए गए थे, क्योंकि वाराणसी, नोएडा, आगरा और लखनऊ में पर्यटकों की आमद चरम पर थी और आम नागरिकों की जीवन शैली भी बदल गई है ।

November 30, 2019

इंडिया राइजिंग का स्वछता अभियान चलते फिरते राहगीरों तक को खींच रहा है अपनी ओर

राहगीर दूध वाले का  श्रमदान 
आगरा। इंडिया राइजिंग आगरा के युवा - युवतियों का दल है जिसे अपने शहर में स्वछता और सुंदरता  अभियान चलाते हुए करीब छह वर्ष होने जा रहे हैं किन्तु तमाम बाधाओं के बावजूद इन लोगों  ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा है। अब यह अभियान बच्चों , बुजुर्गों और  सड़क पर चलते फिरते राहगीरों तक पहुँच चुका है। अभी हाल ही में साइकिल पर दूध बेचने वाले एक राहगीर से नहीं रहा गया, उसने अपने साइकिल एक तरफ खड़ी करके  गन्दी दीवारों पर  अपनी कूंची का कमाल  देखते हुए  स्वयं भी श्रमदान कर डाला।  अब इस अभियान की खासियत यह बन चुकी है कि क्या बच्चे, क्या बुजुर्ग, क्या युवा... कोई भी पीछे नहीं है इसमें । शहर को सुंदर बनाने में सभी का बराबर दीवानगी पनपती नजर आ रही है। इंडिया राइजिंग उन लोगों की बस्ती  तक पहुँच चुकी  है  जो  शहर की सफाई करते हैं यानि वाल्मीकि बस्ती। इंडिया राइजिंग वृक्षारोपण के प्रति भी लोगों को जगाकर आगरा को फिर से हरा भरा स्वच्छ ऑक्सीजन युक्त शहर बनाना चाहती है। 

आगरा स्‍थि‍त सूर सरोवर के सरप्‍लस डि‍स्‍चार्ज से डाउन स्‍ट्रीम में वैट लैंड बनाये जाने की संभावनाओं को तलाशा

उप वन संरक्षक राष्‍ट्रीय चम्‍बल प्रोजेक्‍ट ने जलाधि‍कार और नाबार्ड प्रति‍नि‍धि‍ के साथ कि‍या नि‍रीक्षण 
यमुना  फ्लड प्‍लेन में प्रस्‍तावि‍त वैटलैंड की संभावना का  राष्‍ट्रीय चम्‍बल सैचुरी के
उपसंरक्षक आनंद श्रीवास्‍तव ने कि‍या आंकलन

आगरा - सूर सरोवर परि‍सर में एक  नए नमक्षेत्र (वैट लैंड ) को वि‍कसि‍त करने की संभावनाये जाने की संभावनाये वि‍द्यमान हैं,राष्‍ट्रीय चम्‍बल सैंचुरी प्राजैकट के उप संरक्षक  आनन्‍द श्रीवास्‍ताव ने उपरोक्‍त को दृष्‍टि‍गत 23 नवम्‍बर को सूर सरोवर के सैल्‍यूस गेट से यमुना नदी तक जाने वाले आठ सौ मीटर के उस वाटर  चैनल का नि‍रीक्षण कि‍या जि‍ससे होकर सरोवर से सरप्‍लस पानी का डि‍सचार्ज कि‍ये जाने पर यमुना नदी पहुंचता है। आठ सौ  मीटर एरि‍यल दूरी के इस वाटर चैनल को यमुना नदी तक   पहुँचने  में एक कि‍ मी से अधि‍क की दूरी तय  करनी पडती है। यह जि‍स क्षेत्र में से होकर बहता है वह यमुना नदी का खादारी

ब्रिटिश कम्पनियाँ यूपी के डिफेंस कॉरिडोर में निवेश करने की इच्छुक

( मार्क गोल्ड्सैक )
लखनऊ - ब्रिटेन  की हथियार बनाने वाली कम्पनियाँ उत्तर प्रदेश के प्रस्तावित  मेगा डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर में निवेश करने के इच्छुक हैं। साथ ही  कॉरिडोर में विनिर्माण इकाइयां स्थापित करने के लिए अपने भारतीय भागीदारों के साथ व्यापार गठजोड़ करने में भी ब्रिटिश फर्मों ने  रुचि दिखाई  है। बतादें ब्रिटेनके  रक्षा और सुरक्षा संगठन (डीएसओ) के निदेशक मार्क गोल्ड्सैक के नेतृत्व में पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने इस सप्ताह औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना के साथ बैठक की और रक्षा औद्योगिक गलियारे में निवेश करने में इच्छा प्रकट की । उन्होंने 2020 में लखनऊ में  5 से 8 फरवरी तक होने जा रहे  11 वें राष्ट्रीय रक्षा एक्सपो में यूके की रक्षा और हथियार कंपनियों की भागीदारी पर भी  विशेष चर्चा की। प्रदेश सरकार ने गोल्ड्सैक को डिफेंस एक्सपो के लिए उत्तर प्रदेश में  आने का निमंत्रण दिया था।

November 29, 2019

डिफेंस एक्सपो के लिए गोमती के किनारे के पेड़ों की शिफ्टिंग नहीं चाहती लखनऊ की जनता

अगले वर्ष 5 से 8 फरवरी तक लखनऊ में  डिफेंस एक्सपो आयोजन के लिए गोमती नदी के किनारों से लगभग 64,000 छोटे और बड़े पेड़ों को हटाने का   प्रस्ताव का विवाद काफी  गर्मी पकड़ रहा है। इस प्रस्ताव में कहा गया है  कि  डिफेंस एक्सपो समाप्त हो जाने के बाद नदी के किनारों पर नए पेड़ लगाए जाएंगे।लखनऊ के वायु गुणवत्ता सूचकांक को देखते हुए लोगों का ध्यान विशेष रूप से आकर्षित है। गोमती नदी के तट को अगले साल 15 जनवरी तक डिफेंस एक्सपो के लिए सौंप दिया जाना है क्योंकि एक्सपो 5 से 8 फरवरी तक चलेगा । इस  डिफेंस एक्सपो का विषय होगा इंडिया द इमर्जिंग डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग हब और इसका विशेष  फोकस होगा  डिफेंस के डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन पर । इस विवाद के सन्दर्भ में सरकार के प्रवक्ता शलभमणि त्रिपाठी ने कहा कि पेड़ों को शिफ्ट करने की कोई योजना नहीं थी। किन्तु गोमती तट पर रिवरफ्रंट के आसपास के क्षेत्र का उपयोग रक्षा उपकरणों के प्रदर्शन के कारण  इन पेड़ों  को नर्सरी में ले जाया जाएगा और वहां रखा जाएगा। एक्सपो खत्म होने के बाद, उन्हें फिर से लगा दिया जायेगा। लोगों का माना है कि इस प्रक्रिया मैं सारे पेड़ नष्ट हो जायेंगे  ।

November 28, 2019

आगरा के रेस्तरां में खुलेगी उप्र कि पहली माइक्रो ब्रेवरी, जहाँ मिलेगी ड्राफ्ट बीयर

आगरा। उत्तर प्रदेश में  आगरा का  एक रेस्तरां पहली  माइक्रो ब्रेवरी शुरू करेगा।  जहाँ ग्राहकों को कर्नाटक की तरह ताजी  ड्राफ्ट बीयर  मिल सकेगी । बताया जाता है  राज्य सरकार  ने MB-5 लाइसेंस जारी करने की अनुमति दे  दी है। जिससे रेस्तरां अपने परिसर के भीतर सेवा के लिए ड्राफ्ट बियर का निर्माण कर सकेगा । ये जानकारी प्रमुख सचिव (आबकारी) संजय भूसरेड्डी ने दी।  बिना बोतलबंद बीयर या ताजी बीयर परोसने वाली उत्तर प्रदेश की यह  पहली माइक्रो शराब  ब्रेवरी  होगी। यह  अनुमति  यूपी ब्रेवरी नियमों, 2019 के उद्घोषणा के बाद इस शर्त के साथ दी गई है कि यूपी ब्रेवरी नियमों में उल्लिखित नियमों और शर्तों का कड़ाई से अनुपालन किया जायेगा। आबकारी प्रमुख सचिव  ने कहा कि  माइक्रो ब्रेवरीज  की स्थापना से न केवल ग्राहकों को गुणवत्तापूर्ण ताजी बीयर परोसने में मदद मिलेगी, बल्कि इससे राज्य के राजस्व में भी वृद्धि होगी। अभी मुख्य रूप से नोएडा, गाजियाबाद और आगराके रेस्तरां और होटलों की मांग को पूरा करने के लिए यह  निर्णय लिया गया, जहां विदेशी पर्यटकों की आमद काफी अधिक है।