Showing posts with label समाजवादी पार्टी. Show all posts
Showing posts with label समाजवादी पार्टी. Show all posts

October 5, 2017

समाजवादी पार्टी - अखिलेश की फिर ताजपोशी पांच साल के लिए

आगरा में समाजवादी पार्टी  के दसवें राष्ट्रीय अधिवेशन के दौरान अखिलेश यादव  को  पार्टी का  एक बार  फिर अध्यक्ष चुना गया. इसकी औपचारिक घोषणा सपा के वरिष्ठ नेता रामगोपाल यादव ने  की. यह  उल्लेखनीय  है  कि इस  मौके  पर मुलायम सिंह यादव और अखिलेश के चाचा शिवपाल यादव मौजूद नहीं थे.इससे पहले जनवरी, 2017  में हुए पार्टी  के  राष्ट्रीय अधिवेशन में अखिलेश यादव  को मुलायम सिंह यादव के स्थान पर सपा का अध्यक्ष बनाया गया था. उनका कार्यकाल पांच वर्ष का होगा. इस प्रकार आगामी   लोकसभा चुनाव और 2022 का उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव उन्हीं के नेतृत्व में लड़ा जाना तय हो गया है. आगरा में  आयोजित  सपा के 10वें राष्ट्रीय अधिवेशन से पहले आज पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई जिसमें अध्यक्ष के कार्यकाल की अवधि मौजूदा तीन वर्ष से बढ़ाकर पांच साल कर दिया गया. सपा के राष्ट्रीय अधिवेशन में देशभर से पार्टी के करीब 15,000 प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं. यह माना जा  रहा है कि मुलायम सिंह  बेटे को अपरोक्ष तरीके से साथ दे रहे हैं और शिवपाल यादव अलग - थलग पड़े दिखायी देते हैं.

September 11, 2017

पांच अक्टूबर को आगरा में चुना जायेगा सपा का राष्ट्रिय अध्य्क्ष

समाजवादी पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन पांच अक्टूबर को आगरा में आयोजित किया गया है। इससे पूर्व प्रदेश अधिवेशन २३ सितम्बर को लखनऊ में होग।  जिसमें  हर जिले के सपा नेता भाग लेंगे। राष्ट्रिय अधिवेशन में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रिय  अध्यक्ष का चुनाव भी किया जायेगा। यह सूचना सपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री नंदा ने दी। इससे पूर्व जनवरी में अखिलेश यादव को  राष्ट्रिय अध्यक्ष और उनके पिता मुलायम  सिंह को सपा का राष्ट्रिय संरक्षक बनाया गया था। 

March 27, 2017

अड़ियल अखिलेश ने बनाया राम गोविन्द चौधरी को विपक्ष का नेता

लखनऊ। विधानसभा में विपक्ष का नेता बने राम गोविन्द चौधरी। उनकी नियुक्ति  सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा की गई है। अड़ियल अखिलेश ने मुलायम सिंह के करीबियों को नज़र अंदाज़ कर दिया। उत्तर प्रदेश  विधान सभा में समाजवादी पार्टी सबसे बड़ी पार्टी होने के कारण रामगोविन्द विपक्ष के भी नेता होंगे। सपा को इस चुनाव में सिर्फ  47 सीटें मिली  थीं। पार्टी प्रवक्ता  राजेन्‍द्र चौधरी ने कहा  कि  अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा  रामगोविन्द को विधायक दल का नेता बनाया गया  है। रामगोविंद ने 8वीं बार चुनाव जीता है। उन्हें अखिलेश के करीब और बफादार लोगों में माना जाता है।70 वर्षीय रामगोविन्द ने अपना राजनीतिक कैरिअर एक  छात्र नेता के रूप में शुरू किया। वह सपा सरकार में बेसिक शिक्षा मंत्री तथा बाल विकास एवं पुष्टाहार मंत्री रह चुके हैं । मुलायम सिंह यादव ने भी  विधायकों की बैठक बुलाई है, अखिलेश ने बताया इसके बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं नहीं है। 

February 24, 2017

2019 में नरेंद्र मोदी को मतदाता बापस नहीं भेजेंगे - अखिलेश

समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री पर निशाना लगाते हुए कहा कि मोदी का नोट-बंदी का फैंसला जनता ने देख लिया। नरेन्द्र मोदी की पराजय की शुरुआत  उत्तर प्रदेश से ही होगी।  मुख्‍यमंत्री अखिलेश  यादव ने कहा कि  2019 में नरेंद्र मोदी को  मतदाता  बापस दिल्ली  नहीं भेजेंगे। वह फैजाबाद में एक  चुनावी रैली में बोल रहे थे।  बसपा प्रमुख मायावती पर हमला करने से वह नहीं चूके और कहा  कि  पिछली बार मायावती ने अपना सारा वोट भाजपा को ट्रांसफर कर दिया था। अखिलेश ने आगे कहा कि  बसपा चुनाव में भाजपा से नहीं लड़ना चाहती, बल्कि सपा को रोकने में पूरी ताकत लगा रही है। अखिलेश ने कहा कि किसान बीमा हमने  1 लाख से 5 लाख  किया और  अब हम इसे 7.5 लाख करेंगे। 

February 9, 2017

सपा घोषणापत्र में नकली दावे ,हाइकोर्ट ने चुनाव आयोग को दिए कार्यवाई के निर्देश

समाजवादी पार्टी के  घोषणा पत्र में    वोट बटोरने के लिए झूठे दावे  करने पर इलाहाबाद हाइकोर्ट ने एक बड़ा झटका दिया है। सपा ने अपने घोषणा पत्र में प्रदेश के  विकास के  दावों में   यमुना एक्सप्रेस वे, ताज एक्सप्रेस वे और लखनऊ मैट्रो को भी दिखाया गया है। जबकि ये तीनों प्रोजेक्ट अभी पुरे नहीं हुए  हैं। हाइकोर्ट में दायर  एक जनहित याचिका में सपा द्वारा मतदाताओं को गुमराह करने का आरोप लगाया गया था। इलाहाबाद  हाइकोर्ट ने सपा घोषणापत्र  के झूठे दावों  के मामलों में  चुनाव आयोग को समजवादी पार्टी के विरुद्ध  कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। इस याचिका में अखिलेश  सरकार का गलत आचरण बताते हुए हाइकोर्ट से इन नकली वायदों के खिलाफ  कार्रवाई करने की मांग की गयी थी ।

October 28, 2016

शिवपाल के पास मुलायम के अलावा कोई दूसरा चारा नहीं

समाजवादी नेता शिवपाल यादव ने कहा कि सपा भाजपा को  किसी भी कीमत पर सत्ता में नहीं आने देगी। हम धर्मनिरपेक्ष दलों को एकसाथ जोड़कर भाजपा को सत्ता में आने से रोकेंगे। हम बिहार की तरह महागठबंधन भी बना सकते हैं। पत्रकारों से बात करते हुए शिवपाल ने कहा कि मैं अपने भाई मुलायम सिंह ' नेताजी ' के प्रति पूरी तरह अनुशासनबद्ध हूँ और उनका सिपाही बना रहूँगा। मुख्यमंत्री बनने की महत्वकांक्षा से भी  शिवपाल यादव ने इंकार किया। उन्होंने कहा मैंने  अपने भाई को  उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने में पूरा समर्थन किया था यदि मेरी महत्वकांक्षा होती तो  2003 में यह पद पा सकता था। 

September 13, 2016

उ प्र में यादव परिवार का पारवारिक झगड़ा तबाह कर सकता समाजवादी पार्टी की छवि को

समाजवादी पार्टी का पारवारिक झगड़ा  खुलकर सड़क पर आ गया है। भतीजे  अखिलेश यादव और चाचा शिवपाल यादव  के बीच मुलायम सिंह सैंडविच बने पड़े हैं। सोमवार को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने  राज्य के दो मंत्रियों को बर्खास्त कर दिया था। मंगलवार को मुलायम सिंह ने  राज्य इकाई की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से लेकर शिवपाल यादव को सौंपी दी। अखिलेश  ने जबाब में  मंगलवार को राज्य के मुख्य सचिव दीपक सिंघल की भी छुट्टी कर दी। इसके तुरंत बाद र्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने अखि‍लेश यादव को यूपी प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा दिया और उनकी जगह शि‍वपाल यादव को अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंप दी। अखिलेश यादव का गुस्सा बड़ा उन्होंने पलटवार करते हुए शिवपाल यादव से तीन मंत्रालय पीडब्लूडी, सिंचाई और राजस्व विभाग वापस ले लिए।  राज्यपाल राम नाईक ने मुख्यमंत्री की मंत्रणा से मंत्रिपरिषद के कुछ सदस्यों के कार्य आवंटन में परिवर्तन किया है।लोक निर्माण विभाग को मुख्यमंत्री को उनके वर्तमान कार्यप्रभार के साथ अतिरिक्त कार्यप्रभार के रूप में आंवटित किया है। अवधेश प्रसाद को उनके वर्तमान कार्यप्रभार के साथ सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग, अतिरिक्त कार्यप्रभार के रूप में आंवटित किया है।बलराम यादव राजस्व, अभाव, सहायता एवं पुनर्वासन तथा लोक सेवा प्रबन्धन विभाग एवं सहकारिता विभाग की अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई है।

September 11, 2016

समाजवादी पेंशन योजना की ब्रांड अम्बेसडर विद्या बालन की साड़ी का रंग लाया रंग

( ब्रांड अम्बेसडर अभिनेत्री विद्या बालन )
उत्तर प्रदेश। अखिलेश  सरकार की  समाजवादी पेंशन योजना की  ब्रांड अम्बेसडर अभिनेत्री विद्या बालन ने  जिस साड़ी को पहनकर  प्रचार किया है उसपर विपक्षी पार्टियों ने  हमला शुरू कर दिया है। उनका आरोप है कि विज्ञापन के लिए पहनी साड़ी का रंग समाजवादी पार्टी के झंडे के रंगों जैसा दिखाई देता है। आरोप  में कहा  कि उत्तर प्रदेश सरकार इसके सहारे  समाजवादी पेंशन योजना का  प्रचार न कर अपनी पार्टी का प्रचार कर रही है। विपक्षी नेताओं का कहना है कि अखिलेश  सरकार इस विज्ञापन के जरिये सरकारी ख़ज़ाने का इस्तेमाल कर अपनी पार्टी का प्रचार कर रही है। दूसरी और सपा  इस आरोप को निराधार कह रही है।

March 27, 2016

सैफई परिवार की एकता को भी मजबूत करेगा लखनऊ कैंट का टिकट

मोदी के 'स्‍वच्‍छ भारत अभियान' की प्रशंसक अर्पणा पर भाजपा खेलना चाहती थी दांव
लखनऊ: समाजवादी पार्टी के टिकट बंटवारे में जहां भी संभव होगा पार्टी के मुखिया के परिवारीजनों
(अपर्णा: अब नहीं छिडेंगे तानपूरे पर बे सुरे राग)
को ही टिकट मिलेगा,कम से कम अब तक टिकट बंटवारे के शुरू हुए क्रम से तो इसी बात का संकेत है। पार्टी अध्‍यक्ष मुलायम सिंह यादव के दूसरे बेटे प्रतीक यादव की पत्नी अपर्णा बिष्ट यादव को लखनऊ कैंट से पार्टी का प्रत्‍याशी घोषित कर दिया गया है। श्रीमती अर्पणा यादव को टिकट का मिलना पार्टीजनों द्वारा आश्‍चर्यजनक माना जा रहा है,खासकर उनके प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के स्‍वच्‍छता अभियान के समर्थन में सार्वजनिक तौर पर दिये गये बयान के परिप्रेक्ष्‍य में ।
  जबकि राजनीति में सक्रिय...

March 20, 2016

वर्तमान स्थिति में मायावती की बसपा को 185 सीटें मिल सकती हैं - सर्वे

2017 में चुनाव होने वाले चुनावों के अवसर पर  नीलसन  एजेंसी के हाल ही में  कराये  सर्वे अनुसार वर्तमान स्थिति में  बसपा को सबसे अधिक सफलता मिलेगी।  कुल 403 सीटों में मायावती की बसपा को  185 सीटें मिल सकती हैं। भाजपा को 120 सीटें,समाजवादी पार्टी को 80 पर सफलता मिलने का अनुमान है। वर्तमान में  समाजवादी पार्टी  228, बसपा 80 और भाजपा के पास 42 सीटें हैं।  सर्वे के बाद अखिलेश यादव ने समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं से  जमीनी स्तर पर काम करने की सलाह दी है। 

January 31, 2016

मुलायम से मेरा दिल का रिश्ता - अमर सिंह


वरिष्ठ नेता अमर सिंह के समाजवादी पार्टी  में वापसी की चर्चाएँ काफी समय से चल रही हैं। लखनऊ आने पर उनसे सपा में बापसी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने सिर्फ यह कहा सपा प्रमुख मुलायम सिंह मेरे बड़े भाई थे, हैं और हमेशा  रहेंगे। अमर सिंह ने सपा नेता  आजम खान पर चुटकी लेते हुए  कहा कि चुनावी साल में आजम समाजवादी पार्टी की जरूरत हैं। आगे उन्होने यह भी कहा ‘भले ही मैं इस समय सपा में नहीं हूं लेकिन मुलायम से मेरा दिल का रिश्ता है। अखिलेश यादव मेरे भतीजे थे, हैं और रहेंगे।  विधायक या सांसद का पद इस रिश्ते के सामने  बहुत छोटी चीज है। 

September 18, 2015

सपा खेमें में पूर्व सांसद अमर सिंह के वापसी की हलचल

अमर सिंह की अखिलेश यादव से  छठी मुलाकात

लखनऊः  पूर्व राज्यसभा सांसद अमर सिंह के समाजवादी पार्टी में बापिस आने की संभावनाएं बढ़ती जा रही हैं । बताया जाता है कि   मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और अमर सिंह की आपस में लगातार मिल रहे हैं । कहते हैं कि दो दिन  पुर्व  की  मुलाकात की चर्चा अभी खत्म भी नहीं हुई थी कल सुबह फिर वह अा धमके आैर अखिलेश यादव से मुलाकात की। अमर सिंह मुख्यमंत्री आवास पर जाकर करीब अाधे घंटे तक गुफ्तगू की। बताया जाता है कि  पिछले तीन महीने में अमर सिंह की अखिलेश यादव से यह छठी मुलाकात थी आैर चार दिन में दूसरी। अमर सिंह की मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से   बार-बार मुलाकात काे लेकर राजनीतिक गलियारे में हलचल हाेना स्वाभिक है। 

June 27, 2015

समाजवादी पार्टी दलि‍तों को रि‍झाने के लि‍ये करेगी 18 रैलि‍यां

--सुभाष पासी होंगे संयोजक ,मुलायम और अखि‍लेश करेंगे सम्‍बोधि‍त



(प्रदेश में होने वाली दलि‍त रैलि‍यों के संयोजक होंगे सुभाष पासी ,
मुलायम और अखि‍लेश करेंगे सम्‍बोधि‍त)
आगरा:समाजवादी पार्टी को बसपा का बि‍खरता बोट बैंक सि‍मेटने को उतावली बढी है और वह प्रदेश में 18दलि‍त सम्‍मेलन करने की योजना को अंजाम देने जा रही है।30जून से 5दि‍सम्‍बर तक चलने वाले इन सम्‍मेलनों में पार्टी दलि‍तो को भरोसा देने की कोशि‍श करेगी कि‍ वह भी उनकी हि‍तैषी है।पहला सम्‍मेलन आजमगढ में होगा सांसद धर्मेन्‍द्र यादव इस सम्‍ममेलन की तैयारी करवायेंगे जबकि‍ पार्टी..

उत्तर प्रदेश : समाजवादी पार्टी में नहीं थमने जा रहा बदलाव का दौर

- नगर नि‍गम की सेवाओं के स्‍तर में भारी गि‍रवाट का साख पर प्रति‍कूल असर

- व्‍यापार कर वि‍भाग के काम काज में पारर्दि‍शता की स्‍थि‍ति‍ शून्‍य

(रईसुद्दीन :अध्‍यक्ष तो एक बार फि‍र बन आये,अब सवाल पार्टी की
साख में लगे खोटों को दूर करने का)
उत्तर प्रदेश  में समाजवादी पार्टी के संगठन में बडा बदलाव होने जा रहा है,प्राप्‍त जानकारी के अनुसार अफसरों की एक सशक्‍त लाबी इस काम में सक्रि‍य भूमि‍का नि‍भा रही है।पार्टी के उन पदाधि‍कारि‍यों की स्‍थि‍ति‍ तेजी से परर्वि‍त होगी जो कि‍ अपने दबदे से अफसरों पर दबाव बनाते रहे  हैं।साथ ही जन आक्रोष भडकने पर भूमि‍का शून्‍य रहे हैं।दरअसल पार्टी के मुख्‍यालय और वरि‍ष्‍ठ पदाधि‍कारि‍यों के पास उन कार्यकर्त्‍ताओं और नेताओं के वि‍रुद्ध लगातार शि‍कायतें भि‍जवायी जा रही हैं जो जनता के कामों के नाम पर सरकारी दफ्तरों में पहुंच हैं।
सबसे बडी बात यह है कि‍..

April 15, 2015

जनता दल के घटक मि‍ले नई पार्टी के गठन की प्रक्रि‍या शुरू

--मुलायम होंगे नेता,नाम और चुनाव चि‍न्‍ह होना है तय
--मोदी सरकार को सबक सि‍खाना नई पार्टी की प्रथमि‍क्‍ता 
(फि‍र मि‍ल कर कुछ नया करने को तैयार जद कुटम्‍ब)
आगरा,, कभी पूर्व प्रधानमंत्री स्‍व वी पी सि‍ह के नेतृत्‍व में उभरे जनमोर्चा के साथ कई पार्टि‍यों के वि‍लय से बने जानता दल के वि‍घटि‍त धडे एक बार पुन: आपस में वि‍लय कर रहे हैं। नये दल के अध्‍यक्ष समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष मुलायम सि‍ह यादव ही होंगे और वही नयी पार्टी की संसदीय समि‍ति‍ के भी सदस्‍य होंगे। फि‍लहाल वि‍लय करने जा रहे सभी दलों की एक समि‍ति‍ श्री यादव की अध्‍यक्षता में गठि‍त की गयी है।
  श्री मुलायम सि‍ह यादव के नि‍वास