Showing posts with label शरद यादव. Show all posts
Showing posts with label शरद यादव. Show all posts

September 12, 2017

शरद यादव के हाथ से गया चुनाव चिन्ह

जद (यू) के विद्रोही  नेता शरद यादव द्वारा  पार्टी के चुनाव चिन्ह पर अपने गुट के दावे को चुनाव आयोग ने  खारिज कर दिया। आधिकारिक सूत्रों ने  बताया  कि  संबंधित दस्तावेजों के न होने  के कारण आयोग ने शरद यादव के आवेदन को खारिज  कर दिया। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के राजद के साथ गठबंधन तोड़ने और बीजेपी के साथ हाथ मिलाने का विरोध करने के बाद, जेडी (यू) के पूर्व अध्यक्ष ने चुनाव आयोग से संपर्क कर  उन्होंने असली जेडी (यू)  बताते हुए पार्टी के चुनाव चिन्ह  के लिए दावा किया  था ।बाद में, नीतीश ग्रुप  ने भी  अपने समर्थन में आयोग में  हलफनामे जमा करा दिए थे।

August 24, 2017

शरद यादव राज्य सभा की सदस्यता से भी हाथ धो सकते हैं

शरद यादव आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव की ‘बीजेपी भगाओ, देश बचाओ’ रैली में भाग लेंगे। उन्होंने नितीश की चेतावनी को ठुकरा दिया है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कह चुके हैं कि यदि शरद ने लालू की इस रैली में भाग लिया तो यह उनके लिए बहुत महंगा पड़ सकता है। शरद के  खिलाफ एक्शन लिया जाएगा और उन्हें राज्य सभा की सदस्यता से भी हाथ धोना पड़ सकता है। बताया जाता है कि शरद यादव लालू की रैली में जाने की हामी भर चुके हैं । शरद ने कहा कि महागठबंधन की ताकत दिखाने के लिए हम  रैली में अवश्य भाग लेंगे । शरद यादव जदयू के चुनाव चिन्ह के दावे के लिए चुनाव आयोग में एक याचिका भी जमा करने जा रहे हैं। 

August 11, 2017

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शरद के साथ समझौता करने से किया इंकार

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शरद यादव के साथ कोई समझौता करने से इंकार कर दिया और कहा कि शरद अपना  कोई निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र हैं। नीतीश ने नई दिल्ली में कहा कि पार्टी पहले ही अपना फैसला ले चुकी है और भाजपा के साथ गठबंधन को  जेडी (यू) का पूरा  समर्थन  है। जद (यू) बिहार अध्यक्ष  वशिष्ठ नारायण सिंह ने  भी कहा कि पार्टी  विरोधी गतिविधियों के लिए शरद यादव के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी । उन्होंने कहा, पार्टी से ऊपर कोई भी नहीं है। शरद यादव ने राजद के साथ गठबंधन तोड़ने और भाजपा के साथ हाथ मिलाए जाने के  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के फैसले पर सार्वजनिक रूप से नाराजगी व्यक्त की है।

August 10, 2017

नितीश बनाम शरद, देखना है कौन किस पर भारी पड़ता है

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से नाराज़ जनता दल यूनाइटेड के वरिष्ठ नेता शरद यादव बिहार के सात जिलों की  यात्रा पर निकले हैं। सुना जा रहा वह  नीतीश कुमार को जदयू से बाहर निकालने का प्लेटफॉर्म तैयार कर रहे हैं। पार्टी के अंदर दो धड़ों के बीच तनातनी इतनी बढ़ चुकी है कि जदयू दो भागों में बटती नज़र आ रही है। शरद समर्थक जदयू नेता अरुण श्रीवास्तव ने कहा कि नितीश का  भाजपा  के साथ सरकार बनाना  चुनावों में मिले जनादेश का खुला अपमान है। अब पार्टी में नीतीश को पार्टी से निकालने के लिए कानूनी और संवैधानिक मुद्दों  पर विचार विचार किया जा रहा है। ।

March 20, 2016

पिछडों को दो फाड के लिये नये नुखसे को तलाशा

चौ अजित सिंह और शरद के नेतृत्व में नई पार्टी बनाये जाने को शुरू हुई कसरत
(बाबू लाल मरांडी)      (शरद यादव)
आगरा:पिछडा वर्ग पर यू पी में एकाधिकार समझने वाले राजनीतिज्ञों को  2017 के लिये फिर से दिमागीकसरत शुरू करनी होगी। जनता दल (यू), राष्ट्रीय लोकदल और झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक) शीघ्र ही मिलकर पिछडों की ताकत हिस्‍साबांट करने जा रहे हैं।समाजवादी
(चौ अजित सिंह)
पार्टी के साथ जनतादल परिवार के विलय का खेल आकाम रहने के बाद समाजवादी विचारधारा के बिखरे हुओं का यह दूसरा प्रयास होगा।इस गठबन्‍धन और बाद में मिलकर एक बडी पार्टी बनाये जानेके खेल में बडी भूमिका बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार निभायेंगे
,जबकि उप के 2017 क चुनावी खेल में चुनावी टीम की अगुवाई चौ अजित सिंहके द्वारा...

February 21, 2016

कन्हैया को जल्द रिहा न किया तो सरकार से आर-पार की लड़ाई होगी - शरद यादव

जदयू राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव
जबलपुर (मप्र)। जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव ने कहा कि कन्हैया को जल्द  रिहा न किया गया तो संसद और संसद के बाहर इस मुद्दे  पर हमारी सरकार से  आर-पार की लड़ाई होगी। भाजपा पर प्रहार करते हुए उन्होंने आगे  कहा कि वे राष्ट्रभक्ति के प्रमाण पत्र बांटने की एजेंसी न खोलें , बल्कि केंद्र सरकार जेएनयू के छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की तत्काल  रिहाई कराए।शरद यादव ने कहा  देश की प्रतिष्ठा इस प्रकार की ओछी राजनीति करने से नीचे गिरती है और केंद्र की  भाजपा सरकार  वही करने में लगी  है। 

April 15, 2015

जनता दल के घटक मि‍ले नई पार्टी के गठन की प्रक्रि‍या शुरू

--मुलायम होंगे नेता,नाम और चुनाव चि‍न्‍ह होना है तय
--मोदी सरकार को सबक सि‍खाना नई पार्टी की प्रथमि‍क्‍ता 
(फि‍र मि‍ल कर कुछ नया करने को तैयार जद कुटम्‍ब)
आगरा,, कभी पूर्व प्रधानमंत्री स्‍व वी पी सि‍ह के नेतृत्‍व में उभरे जनमोर्चा के साथ कई पार्टि‍यों के वि‍लय से बने जानता दल के वि‍घटि‍त धडे एक बार पुन: आपस में वि‍लय कर रहे हैं। नये दल के अध्‍यक्ष समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष मुलायम सि‍ह यादव ही होंगे और वही नयी पार्टी की संसदीय समि‍ति‍ के भी सदस्‍य होंगे। फि‍लहाल वि‍लय करने जा रहे सभी दलों की एक समि‍ति‍ श्री यादव की अध्‍यक्षता में गठि‍त की गयी है।
  श्री मुलायम सि‍ह यादव के नि‍वास