February 5, 2018

सार्वजनिक जीवन में विश्‍वसनियता बनाये रखना सबसे अहम: सुमन

-- प्रतापचन्‍द जैसवाल स्मृति समारोह में नाजिया खानऔर साहित्‍यकार अशोक रावत हुए सम्‍मानित
पूर्व केन्‍द्रीय मंत्री रामजी लाल सुमन ने साहित्‍कार अशोक रावत
और आगरा की वीर वाला नाजिया खान को किया सम्‍मानित।

आगरा: प्रख्‍यात समाजसेवी  स्‍व प्रतापचन्‍द जैसवाल को कृतज्ञ शहरवासियों के द्वारा उनकी जयंती केअवसर पर यूथ हॉस्‍टिल में आयोजित कार्यक्रम में याद कऱ विभिन्‍न क्षेत्रों में रहे योगदान के लिये श्रद्धासुमन अर्पित किये गये । 
पूर्व केन्‍द्रीय मंत्री प्रख्‍यात समाजवादी नेता रामजीलाल सुमन ने कहा जैसवाल जी जनसामान्‍य से जुडे रहने वाले नेता थे। कांग्रेस में उनकी काफी सक्रियता रही किन्‍तु समाजवादी पार्टी से उनकी राजनैतिक शुरूआत हुई। आम लोगों में जीवन पर्यंत उनकी विश्‍वसनियता रही।जो कि उनकी
सबसे बडी पूजीथी। कथनी और करनी में कभी अंतर नहीं रहा।जबकि अब राजनेताओं और सार्वजनिक  क्षेत्र में सक्रिय लोगों की विश्‍वसनियता  संदिग्‍घहोगयी हैजिससे कि उनकी बात बात बेअसर हो गयी है।

श्री सुमन ने कहा जैसवालजी  सहज स्‍वभाव के थे और सदगी उनकी पहचान थी। 'बे बजह दिल पर कोयी बोझ दिल पर हावी नहीं रखिये पर कोयी जिंदगी एकजंग है इसे जारी रखिये ।कितने दिन जिंदा रहे यह  न गिनिये,किसतरह  जिंदा रहे इसकी शुमारी रखिये। जैसवाल जी इस कसौटी परअपनेआपमेंएकमिसालथे।जबतकजिये सार्वजनिकजीवन की प्रतिबद्धताओं के लिये जिये।

प्रख्‍यात चिकित्‍सक डाएम सीगुप्‍तानेकहा कि जैसवालजी  की शहर मेंअलग पहचानथी। अपने संपर्कोंऔर प्रभावकाउपयोग उन्‍होंने हमेशा सार्वजनिक उद्धेश्‍यों के लिये ही किया । भारतीय जनता  पार्टी  वरिष्‍ठ नेता श्री पुरुषोत्‍तम खंडलेवाल ने कहा कि उनजैसाबनने कीचाहत तो बहुतों को होगी किन्‍तु सामाजिक प्रतिबद्धताओं और नैतिकता के मूल्‍यों में बदलावे अब संभव नहीं लगता।

शिक्षाविद् डा नसरीन बेगम नेकहाकिश्रीजयसवालजीकासाहित्‍यिकक्षेत्र मेंरहेयोगदानकोपुन-प्रकाशितकर उसकी जानकारीनयी पीढी तक पहुंचाया जाना चाहिये । उन्‍होंने कहा कि जैन साहब ने 1964 में बाबू गुलाब राय स्‍मृति संस्‍थान की स्‍थापना कर साहित्‍यक क्षेत्र को एक सशक्‍त मंच दिया । साहित्‍य क्षेत्र में उनका ज्ञान किसी भी पीएचडी की डिग्री धारक से अधिक था। सम्‍मेलन में सम्‍मानित गजलकार श्री अशोक रावत ने अपनी कयी सशक्‍त गजलों को सरस प्रस्‍तुत किया।

सम्‍मानित बहादुर युवती नाजिया खान नेकहाकि वहअपनेकोमिले सम्‍मानसेगौरान्‍वित महसूसकरती हैऔर उन्‍हे फक्रहेकि सगीरफातिमा गर्ल्‍सकॉलेज जहां वह इंटरतकपढी हैं तथा आगरा कॉलेज जहां किअब वह ग्रेजुऐशनकर रहीहे,केनाम उनसेजुड है,जबउन्‍हेआगरा का कहा जाता है तो वह खासतौर से गौरवान्‍वित महसूस करती हैं। सम्‍मानितो का परिचय संजीव गौतम व मुस्‍कानजैसवाल के द्वारा दिया गया।

कार्यक्रम कासंचालन  श्री हरीश सक्‍सेना 'चिमटी ' के द्वाराकियागया जबकि सर्वश्री अनुराग शुक्ला, राजीव सक्सेना, मदन गर्ग, ,डा नीरज स्‍वरूप,तजेन्द्र राजौरा, डा मधुरिमा ष्षर्मा, गोपाल गुरू, सुनील जैन, डा त्रिमोहन ‘ तरल’ रमेष पंडित, अमीर अहमद, शिवराज  यादव सैयद महमूद,अनिल अरोडा‘संघर्ष संजय राज गुप्ता, राहुल गुप्ता, हरिओम अग्रवाल एडवोट, आई डी श्रीवास्तव, हरिओम अग्रवाल, सुधीर गुप्ता, अनिल अग्रवाल एडवोकेट,बच्चन सिह सिकरवार आदि उपस्‍थ्‍ितों में शामिल थे ।
' वो जन्‍म लेगी ' नाट्य की  प्रस्‍तुति

'वो जन्‍म लेगी' की प्रस्‍तुति देते 'क्रियेशन ग्रुप' आगरा के कलाकार
कार्यक्रम केअंतमें नगर के सक्रिय थियेटर 'क्रियेशन ग्रुप ' केद्वारा  लिंग परीक्षण के बाद गर्भ में ही भ्रूणहत्‍या करवाने केक्रूर प्रचलन के विरूद्ध जनप्रतिबद्धता को जाग्रत करने वाले 'वो जन्‍म लेगी' नाटय की सोमा जैन,रुचिकौर, प्रियंका कौर , एसकेजैन,महेश, तुशार चौधरी,राहुल, दीपेश,पारस, विवेक चौधरी, कीर्ति आदिकलाकारों केद्वारा प्रभावी प्रस्‍तुति की गयी। नाटक का लेखन व निर्देशन क्रमश:चन्‍द्रशेखरऔरउमांशंकर केद्वारा किया गया। कार्यक्रम व नाटक प्रस्‍तुति केबाद बासु जैसवाल केद्वारा आभार व्‍यक्‍त किया गया।