January 27, 2018

राजस्‍थान के लोक गीत संगीत से भरपूर 'अपूर्वा' की 'उलझी'

--' सबजानें और गुनगनायें 'म्हारो राजस्थान' के संगीत से सजा लोक गीत ' 
अपूर्वा मंत्री

अगरा: अपनी मंचीय प्रस्‍तुतियों से तालियां बटोरती रहने वाली मुम्‍बई की प्रख्‍यात गायिका पूर्वा मंत्री को राजस्‍थानी परंपराओं से खास लगाव है और वह 'ढोला- मारू'की जमीं से जुडे  संगीत को दुनियां भर में लोगों को गुनगुनाते सुनना चाहती हैं।
अपने हॉट और पॉप संगीत के लिये इंडियन शकीरा के नाम से विख्‍यात पुर्वा मंत्री का 'उलझी' एक नया एल्‍बम है।रिलीज होने के साथ ही इसके गीत और संगीत को जिसने भी सुना , गुन-गनाना शुरू कर दिया । पुर्वा बचपन से राजस्‍थानी संगीत-गीतों कोजानती समझती है।उनकी मां राजस्‍थानी -शास्‍त्रीय संगीत की गायिका रही हैं इसलिये  उनका यहकहना सहीही है कि रजस्‍थानी संगीत
उनके खून में है ।वैसे भी ' राजस्‍थानी गीत और संगीत को पसंद करने वालों का एक बडा समूह पूरे देश में है,यही कारण है जब भी कोईगंभीर जमीन जुडी कोई 'ठेठ 'प्रस्तुति वालीवुड की चमक दमक में भी स्‍थान पाती हैतो उसे भारी लोक प्रियता मिलती है ।  बस शायद यही मूल मकसद रहा होगा पूर्वा की 'उलझी'का जो कमोवेश पूरा हो चुका है।