September 26, 2017

सपा सम्‍मेलन में गर्मायेगा ताज सिटी के एयर एन्‍कलेव को लटकाने का मुद्ददा

जैवर एयरपोर्ट प्रोजैक्ट को लेकर खाट पंचायतें,दि‍शाहीनता के हालात

मौहकमपुर गांव के खाट पंचायत करते किसान
 आगरा: समाजवादी पार्टी के ताज सि‍टी में 5 अक्टूवर को होने जा रहे राष्ट्रीय सम्मेलन में उ प्र सरकार की हवाई अड्डे और एयर कनैक्टिवि‍टी को लेकर चलती रही बयानवाजी पर चर्चा होना अनुमानि‍त है।आगरा के पर्यटन व्यवसायीयों का एक ग्रुप इसके लि‍ये खास तौर से प्रयासरत है और एक प्रस्ताव भी पार्टी के नेताओं के माध्यम से रखे जाने के लि‍ये तैयार करने में जुटा हुआ है। आगरा में एयरफोर्स परिसर के बीच मे स्‍थित सिविल एयरपोर्ट  के स्‍थान पर नया  सि‍वि‍ल एन्कलेव बनाये जाने
का काम घोषणा होने के बावजूद शुरू होन में रही नाकामी,मेरठ जनपद की एयर कनैक्टिवि‍टी और पारतपुर एयरपोर्ट के उच्चीकरण की उपेक्षा के अलावा जैवर में ताज इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राजेक्ट को लेकर बनी हुई दि‍शाहीनता आदि‍ इसमें मुख्य मुददे रहेंगे।
सपा सम्मेलन में राजनीति‍ की सीमाबन्दी के कारण एयर कनैक्ट्वि‍टी और एयरपोर्टों पर चर्चा भले ही सीमि‍त रहे कि‍न्तु भारतीय जनता पार्टी  खासकर उ प्र की योगी सरकार के लि‍ये जैवर में प्रस्तावि‍त इंटरनेशनल एयरपोर्ट योजना का क्रि‍यान्‍वयन जरूर समस्याकारी बन चुका है। कई राजनीति‍ज्ञ जो कि‍ ताज इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्रोजैक्ट जैवर में लाये जाने का दावा कर रहे थे अब वहां के कि‍सानों के बीच जाने से कतरा रहे हैं।
--अब तक कोरी बाते ही
उधर ताज इंटरनेशनल एयरपोर्ट आगरा डि‍जर्ब्स इट ‘जागो आगरा जागो’ सोशल मीडि‍या मूवमेंट के कॉर्डीनेटर अनि‍ल शर्मा ने कहा है कि‍ अक्टूावर में नया पर्यटन सत्र शुरू हो जायेगी ,कि‍न्तु’ अब तक न तो आगरा की एयरकनैक्टिवि‍टी को लेकर ही सरकार के द्वारा कोई सटीक घोषणा की गयी है और नहीं सि‍वि‍ल एन्कलेव के नि‍र्माण का काम शुरू करने को जमीन अधि‍ग्रहण की प्रक्रि‍या ही पूरी हुई है।     
--तीन हजार एकडा में उजडनी है खेती
उधर जैबर में ताज इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्रोजैक्ट कभी भी एक बडे आंदोलन का कारण बनने की स्थिति‍  है। 2001 में जैवर एयरपोर्ट की मूल योजना जो कि‍ भाजपा-बसपा संयुक्त  सरकार में श्री  राजनाथ सि‍ह के शासन काल मे प्रस्तावि‍त की गयी थी ,में 35गांवों की 10हजार हेक्टे यर जमीन अधि‍ग्रहि‍त की जानी थी। जबकि‍ वर्तमान में तीन हजार हेक्टेंयर जमीन पर ही काम चलाने का वि‍चार है।
--किसान भविष्‍य की चंता को लेकर परेशान
जि‍नगांवों में इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्रोजेक्ट‍ की खूंटी पहुंच चुकी है उनमें मोहकमपुर शि‍वरा,कि‍शोरपुर, बनवारीवास, रोही,रमनेर, नगला गनेशी, नगला प्राची, नगला सैफीखान, और रनहैरा शामि‍ल हैं। इन सभी गांवों मे यमुना एक्सप्रेस वे इंडस्ट्रियल डव्लपमेट अथार्टी कि‍सी प्रकार के नये निर्माण  पर रोक लगाने का आदेश पहले से ही प्रभावी कर चुकी है।ये सभी गांव उ प्र के गौतम नगर जनपद की जैवर तहसील के हैं।
अब इन सभी गांवों में अनि‍श्चतता का माहौल है,यहां तक कि‍ कि‍सान खेतीबाडी तक भूले हुए हैं,कर्म संस्कृति‍ पर मुआवजे आस और भवि‍ष्य की चिता हावी हो चुकी है।
--जन्‍नत के लिये चमन तो उजडना है ही
सबसे ज्यादा अनि‍श्चितता इन गांवों के उन भूमि‍हीन परि‍वारों के सदस्यों को है। जि‍न्हें उ प्र की मौजूदा भू अधि‍ग्रहण नीति‍ में न तो कि‍सी कि‍स्म का मुआवजा मि‍लना और नहीं जीवकोपर्जन को कोई अन्‍य सुवि‍धा ही। जहां तहसील स्टाफ और अधिकारी यह कहकर उन्हे टरका रहे है कि‍ अगर सरकार की कोयी नीति‍ उनके लि‍ये होगी तभी उन्हे फायदा मि‍ल सकेगा।यही नहीं सरकारी अमले के सदस्‍य यह भी सुझाव दि‍ये बि‍ना नहीं रहते कि‍ समय रहते कोई और काम धंधा देख लों ‘यहां तो चमन उजड कर वह जन्नत बसनी है