September 10, 2017

कथनी और करनी का भेद कम होने पर ही धर्म भाव होंगे सार्थक

--जैन  समाज ने कि‍या आत्म- शुक्ल- शिव -संतोष जन्म जयंती का आयोजन
कार्यक्रम से पूर्व आई जी आगरा जोन ने कि‍या   अशोक जैन  ने कि‍या  ध्‍वजारोहण
आगरा: जीवन में जिस दिन हम अपनी कथनी और करनी के भेद को कम करने में सफल होगें तभी धार्मिक आयोजनों की सार्थकता है ।धर्म के भाव केवल चातुर्मास के अवसरों पर ही नहीं वरन वर्ष भर बने रहें तो जीवन में परिवर्तन आ सकता है ।यह उद्गार है आई जी आगरा जोन अशोक जैन मूथा के जो उन्होंने श्री श्वेतांबर जैन ट्रस्ट मोती कटरा द्वारा आयोजित समारोह में मुख्य अतिथि के रुप में व्यक्त किए। उन्होंने आगे कहा की हम हर वर्ष संवत्सरी एवं पर्युषण के अवसर पर एक दूसरे से वर्षभर में की गई गलतियों की माफी मांगते हैं।क्या कभी हमने ऐसा सोचा है कि सब ऐसा प्रयास करें कि हर वर्ष माफी मांगने की आवश्यकता ही ना पड़े। इससे पूर्व समारोह का शुभारंभ अशोक जैन मुथा ने ध्वजारोहण कर किया। स्वागत अध्यक्ष प्रेमचंद जैन द्वारा माल्यार्पण एवं स्वागत संबोधन किया गया। प्रथम पट्टधर आचार्य
आत्माराम जी महाराज, पंजाब प्रवर्तक शुक्ल चंद्र जी महाराज, चतुर्थ पटटधर आचार्य शिव मुनि एवं जम्मू प्रवर्तकिनी संतोष कुमारी की जन्म जयंती के अवसर पर आयोजित किए गए "जीव दया एवं गुरु गुणगान महोत्सव" के अवसर पर यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था । समारोह अध्यक्ष सुभाष चंद सुराना एवं विशिष्ट अतिथि अशोक जैन सीए का माल्यार्पण एवं स्वागत ट्रस्ट के अध्यक्ष सुमेर चंद जैन सोनी ने किया । मंगलाचरण साध्वी मंडल अर्चिता जी, डालिमा जी एवं परिधी जी द्वारा किया गया ।भजनों का समधुर गायन साध्वी डालिमा जी, कुसुम जी एवं योगेश जी चंडालिया ने किया । कार्यक्रम में रिचा जैन ,लवली जैन नोएडा, सोहनलाल जैन ,शुभम जैन अलवर,महावीर प्रसाद जैन एवं दुष्यंत लोढ़ा ने अपने विचार व्यक्त किए ।लुधियाना की रिचा जैन एवं वर्षा भंडारी के निर्देशन में सांस्कृतिक प्रस्तुतियों का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापन श्वेतांबर जैन ट्रस्ट के अध्यक्ष सुमेर चंद जैन सोनी ने किया कार्यक्रम का सफल संचालन मंत्री महेंद्र सिंह जैन ने किया इस कार्यक्रम में उपाध्यक्ष नरेश जैन, कोषाध्यक्ष आजाद कुमार जैन, सह मंत्री राकेश सकलेचा, वरिष्ठ पत्रकार विवेक कुमार जैन, अशोक जैन गुल्लू सहित जैन युवा मंडल के सौरभ जैन,वैभव जैन,रचित जैन,विशाल जैन,ऋषभ जैन आदि  सदस्य उपस्थित थे ।