August 22, 2017

झाँसी के जिलाधिकारी खुद सफाई करने उतर पड़े

झाँसी के जिलाधिकारी ने अपने शहर को साफ बनाना चाहते हैं। वह खुद सफाई करने पर उतर पड़े हैं। उनका मानना है कि स्वयं सफाई करेगे, तो गन्दगी नही फैलेगी। स्वच्छ वातावरण में कार्य पद्वति में स्वतः बदलाव आता है। कार्यालय में फाइलों की भी सफाई समय-समय पर और रख-रखाव भी बेहतर हो। जिससे जब फाइल देखना हो तो तत्काल उसे निकालकर देखा जा सके। यह बात झाँसी के  जिलाधिकारी  कर्ण सिंह चौहान ने साप्ताहिक स्वच्छता अभियान के तहत कलैक्ट्रेट परिसर में स्वयं सफाई करते हुए उपस्थित अधिकारियों और कर्मचारियों से की। उन्होने अनुपस्थित कर्मचारियों से स्पष्टीकरण देने के निर्देश दिए। उन्होने कहा कि स्वच्छता अभियान में लापरवाही पर कार्यवाही की जाएगी।

 कर्ण सिंह चौहान ने कलैक्ट्रेट परिसर को स्वयं कर्मचारियों के साथ-साथ साफ किया तथा एसीएम कक्ष के शौचालय की गंदगी देख नाराजगी व्यक्त की तथा स्वयं साफ कर उपस्थित लोगों को सफाई हेतु प्रेरित किया। उन्होने कक्ष में अस्त व्यस्त बिजली के लटके तारों को दुरुस्त करने को कहा, ताकि अनहोनी घटना से बचा जा सके। उन्होने निर्देश दिए कि कक्ष में लगे कूलर या तो हटा दिए जाए या पानी खाली कर दिया जाए, क्योकि कूलर के पानी में मच्छर जमा होते हैं । जिससे अनेक बीमारियां पनपती  हैं ।जिलाधिकारी ने कलैक्ट्रेट परिसर का भ्रमण कर अन्य पटलों का निरीक्षण किया और सफाई व्यवस्था को देखा। उन्होने कहा कि साफ-सुधरे माहौल में काम करने से कार्य में गति तो आती ही है, साथ ही गलतियां भी नही होती है।