November 5, 2016

मुलायम के महागठबंधन के स्वप्न की शुरुआत

 (बैठे हैं पास पर दिलों में दूरियां )
मुलायम सिंह  जो अपनी समाजवादी  पार्टी का आंतरिक गठबंधन  नहीं कर पा रहे हैं  ने  अपने तितर बितर हुए पुराने  साथियों और अपनी   बिछड़ी  पार्टियों के महागठबंधन बनाने  का स्वप्न देखना आरम्भ कर दिया है। मुलायम सिंह द्वरा सपा  रजत जयंती समारोह  के जलसे के बहाने  अपने पुराने साथियों के साथ हाथ में हाथ थामना महागठबंधन बनाने की दिशा में पहली  शुरुआत लगती है। 
राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने  सपा के रजत जयंती समारोह में भाग लेकर  मुलायम सिंह के साथ भारी प्रेम दिखाया। बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार  इसमें भाग लेने नहीं आये। नितीश के ना आने का वास्तविक कारण क्या था कहना कठिन है। नितीश ने बस यह कह दिया छठ पूजा की तैयरियों में व्यस्त होने  के कारण मैं वहां नहीं जा पाउंगा। पूर्व प्रधानमंत्री और जनता दल एस के नेता एचडी देवगौड़ा,जदयू के सीनियर नेता शरद यादव,आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद,रालोद प्रमुख अजित सिंह,इनेलोद नेता
अभय चौटाला, जदयू नेता के. सी. त्यागी और प्रख्यात वकील राम जेठमलानी आदि हाथ में हाथ पकड़कर मंच पर एक साथ खड़े दिखाई दिए ।