December 14, 2015

7 राज्‍यों की ओर से 15 स्‍मार्ट सिटी प्रस्‍ताव प्राप्‍त हुये

राजस्‍थान इस तरह का प्रस्‍ताव पेश करने वाला पहला राज्‍य 

शहरी विकास मंत्रालय को स्‍मार्ट सिटी से जुड़े प्रस्‍ताव पेश करने वाले प्रथम राज्‍य राजस्‍थान की सरकार ने स्‍मार्ट सिटी के रूप में अजमेर, जयपुर, कोटा और उदयपुर को विकसित करने के लिए अगले पांच वर्षों के दौरान कुल मिलाकर 6,457 करोड़ रुपये के निवेश का प्रस्‍ताव रखा है। कुल निवेश में जयपुर के लिए 2,403 करोड़ रुपये, कोटा के लिए 1,493 करोड़ रुपये, अजमेर के लिए 1,300 करोड़ रुपये और उदयपुर के लिए 1,221 करोड़ रुपये का निवेश शामिल है। जहां एक ओर कोटा के निकट...
एक ग्रीनफील्ड शहर विकसित किया जाएगा, वहीं दूसरी ओर शेष तीन शहर रेट्रोफिटिंग क्षेत्र (कुछ नया जोड़ना) आधारित स्‍मार्ट सिटी विकास योजनायें क्रियान्वित करेंगे। ये सभी चारों शहर समस्‍त सिटी के लिए समाधान लागू करेंगे, जो प्रौद्योगिकी आधारित होंगे।
जयपुर से जुड़ी स्‍मार्ट सिटी योजना के तहत 600 एकड़ क्षेत्र में रेट्रोफिटिंग का काम किया जाएगा, जिसमें सतत गतिशीलता वाला गलियारा, स्मार्ट नागरिक बुनियादी सुविधायें और विरासत और पर्यटन को बढ़ावा देना शामिल है, जिन पर 1583 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है। 600 एकड़ के समूचे क्षेत्र में बड़ी चौपड़ एवं छोटी चौपड़ के बीच के पुराने शहर के साथ-साथ अल्‍बर्ट म्‍यूजियम भी शामिल है। 

अजमेर में, रेट्रोफिटिंग का काम अन्ना सागर झील के उत्तर और पश्चिम भागों में 1,334 एकड़ से भी ज्‍यादा के क्षेत्र में किया जाएगा। इसके तहत बुनियादी ढांचे को दुरुस्‍त किया जाएगा और हरित इमारतों का निर्माण किया जाएगा। इस पर 925 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है। 

उदयपुर से जुड़े स्‍मार्ट सिटी प्रस्‍ताव के तहत 880 करोड़ रुपये का निवेश 828 एकड़ क्षेत्र की रेट्रोफिटिंग में किया जाएगा। इसके तहत सीवरेज एवं विद्युत आपूर्ति व्‍यवस्‍था को बेहतर बनाया जाएगा। 

कोटा ने 1045 करोड़ रुपये की लागत से 395 एकड़ क्षेत्र में ग्रीनफील्‍ड के विस्‍तारीकरण का प्रस्‍ताव रखा है। इसके अलावा समस्‍त शहर के लिए बनाये गये प्रस्‍ताव के तहत कचरे का ठोस प्रबंधन करने के साथ-साथ स्‍मार्ट कॉरीडोर का निर्माण किया जाएगा, जिन पर कुल मिलाकर 438 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है। 

छह राज्‍यों एवं पुडुचेरी की ओर से 15 शहरों के लिए स्‍मार्ट सिटी योजनायें शहरी विकास मंत्रालय को पेश की गई है। ये निम्‍नलिखित हैं :- 

1. राजस्‍थान : जयपुर, उदयपुर, अजमेर और कोटा

2. पंजाब : जालंधर

3. झारखंड : रांची

4. पश्चिम बंगाल: न्यू टाउन कोलकाता, बिधाननगर और दुर्गापुर

5. केरल : कोच्चि

6. कर्नाटक : दावणगेरे, टुमाकुरू, हुबली-धारवाड़ और शिवमोगा

7. पुडुचेरी – आउलगैरेट