May 16, 2015

‘श्रवण कुमार प्रकरण’ में एडीए सचि‍व ने की एक्टिी‍वि‍स्टों से वार्ता

--’गुंडई’ करने वाले इंजीनि‍यर कानून के तहत कार्रवाही करने को कि‍या अश्‍वस्‍त  
(एडीए सचि‍व प्रभांशु श्रीवास्‍तव से वार्ता करते हुए
 रवीन्‍द्र सि‍ह टि‍म्‍मा एवं श्रवण कुमार)
आगरा, बात थी दुर्व्‍यवहार के लि‍ये सभ्रांत  नागरि‍क श्रवण कुमार से माफी मांगने की कि‍न्‍तु काम चलाया गया आगरा वि‍कास प्राधि‍करण के सचि‍व कै प्रभांशु श्रीवास्‍तव को आगे कर वि‍नम्रता से आक्रोष को ठंडाकर। हो सकता है कि‍ मामला आगे पूरी तरह से ठंडा पड जाये कि‍न्‍तु आम जनता में एक टीस अवश्‍य रह जायेगी कि‍ आम आदमी को सक्षम प्रशासन और नागरि‍कों को सम्‍मान के साथ जीने की व्‍यवस्‍था देने की बडी बडी बाते करके सत्‍ता में पहुंची समाजवादी सरकार इंजीनि‍यर तक को उसके द्वारा की गयी गुंडई तक का अहसहास नही करवाने में सक्षम साबि‍त नहीं हो सकी।

(वार्ता करने के बाद एक्‍टि‍वि‍स्‍ट: अपनी ही सुना आये बाकी उ
नकी साख पर छोड आये)
फि‍लहाल ग्राम्य वि‍कास मंत्रालय के सेवा नि‍वृत अधि‍कारी एंव समाजसेवी श्रवण कुमार सिंह के साथ दुव्‍यवहार संबधी प्रकरण में एक्‍टि‍वि‍स्‍ट  प्राधिकरण के सचिव सुभांशु श्रीवास्तव से मिले और उनको तथ्यों से अवगत कराकर दोषी अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही की मांग की।श्री  श्रीवास्तव ने
आश्वाशन दिया की कानून के तहत जो जरूरी होगा किया जायेगा। प्रतिनिधि मंडल ने मांग की कि प्राधिकरण अधिकारी जनता से अच्छा व्यवहार करना सीखें और भविष्य में इस तरह की दुर्व्यवहार की घटना की पुनरावती न हो